पेरेंटिंग

बच्चे के जन्म के बाद सेक्स लाइफ़ शुरू करने से पहले जान लें ये ज़रूरी बातें

Parentune Support
0 से 1 वर्ष

Parentune Support के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Sep 22, 2017

बच्चे के जन्म के बाद सेक्स लाइफ़ शुरू करने से पहले जान लें ये ज़रूरी बातें

दिन बीतने के साथ जैसे-जैसे मां जन्म देने के दर्द से उबरने लगती है, ये सवाल सभी कपल्स के दिमाग में आता है कि जन्म के कितने दिन बाद सेक्स करना सुरक्षित होता है. बच्चे के जन्म के कितने दिन बाद तक सेक्स नहीं करना चाहिए, ये पूरी तरह जन्म के तरीके पर निर्भर करता है. सामान्य डिलीवरी के बाद मां को ठीक होने में कम समय लगता है.
 

सबके अनुभव होते हैं अलग

इस सवाल का कोई सटीक जवाब नहीं है, क्योंकि सभी के अनुभव अलग होते हैं. बच्चे के जन्म और सेक्स के समय के बीच कितना अन्तर होना चाहिए ये इस पर भी निर्भर करता है कि मां कब खुद को इसके लिए तैयार महसूस करती है. ये हर कपल के लिए बेहद निजी अनुभव होता है.
 

क्या कहते हैं डॉक्टर्स

डॉक्टर्स बच्चे के जन्म के 6 हफ़्ते बाद मां के शरीर की जांच कराने की सलाह देते हैं ताकि पता चल सके कि उसका शरीर पूरी तरह जन्म के बाद ठीक हो पाया है या नहीं. शरीर ठीक हो जाने के बाद भी अगर आप सेक्स के लिए सहज महसूस नहीं करती हैं, तो आपको खुद को और समय देना चाहिए.
 

ब्लीडिंग रुकने का करें इंतज़ार

कुछ महिलाओं को बच्चे के जन्म के बाद पूरी तरह ठीक होने में कुछ हफ़्ते लगते हैं, तो कुछ को महीने लग जाते हैं. जन्म के बाद होने वाली ब्लीडिंग रुकने तक इंतज़ार करने की सलाह दी जाती है, क्योंकि इस दौरान गर्भ दोबारा सामान्य होने की प्रक्रिया में होता है.
 

टाँके लगने पर

अगर जन्म दे दौरान मां को टांके लगाये गए हैं, तो गर्भ को सामान्य होने में और वक़्त लग सकता है. गर्भाशय के पूरी तरह ठीक होने से पहले संबंध बनाने से संक्रमण होने का भी ख़तरा रहता है.
 

बरतें सावधानी

इसके बाद भी सेक्स करते हुए ऐसी पोजीशन ट्राई नहीं करनी चाहियें, जिनमें गर्भाशय पर ज़्यादा दबाव पड़ता हो. मां बनने पर आपमें कई शारीरिक और मानसिक बदलाव आते हैं. ये एक बदलाव की प्रक्रिया है, जिससे गुज़रने में आपको कोई हड़बड़ी नहीं करनी चाहिए.

 

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • कमेंट
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}