• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
पेरेंटिंग स्पेशल नीड्स

बड़ी हो रही बेटी को पीरियड्स के बारे में कैसे बताएं?

दीप्ति अंगरीश
7 से 11 वर्ष

दीप्ति अंगरीश के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Nov 25, 2019

बड़ी हो रही बेटी को पीरियड्स के बारे में कैसे बताएं
विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

माहवारी एक प्राकृतिक प्रकिया है, जो हर महीने होती है। कम उम्र की लड़कियों को इसे स्वीकारने में दिक्कत होती है। बेटी की परवरिश जिम्मेदारी आपकी है। उसे बताना होगा कि टीनऐज में आते ही उसके शरीर में तरह-तरह के बदलाव होंगे, जिसे उसे स्वीकारना होगा। इन पर शर्माने या झिझकने की आवश्यकता नहीं। ऐसे में आप बेटी से संशय व संदेह रहित महावारी की पूरी प्रक्रिया बताएं।

बेटी को कैसे बताएं महावारी का पूरा सच / How to talk to your daughter about her period and puberty In Hindi?

  1. सहजता से रखें बात- बेटी हो या बेटा माता-पिता को दोनों से ही महावारी की बात करनी चाहिए। यहां बात सहजता और दोस्ताना रूप में करें। यह जरूरी इसलिए है कि बेटी अपने शारीरिक बदलावों से रूबरू होगी। दूसरी ओर बेटे से करने पर वो महिलाओं की इज्जत करना सीखेगा। इस दौरान लड़कियां मूड स्विंग और दर्द से गुजरती हैं। आप यह इंतजार नहीं करें कि बेटी को पीरियडस होने पर ही बताएंगे। पहले से वाकिफ होने पर उसे कुछ अटपटा नहीं लगेगा। बता दें कि आमतौर 11 से 13 उम्र में पीरियडस आरंभ हो जाते हैं। कुछ लड़कियों में 8 साल की उम्र से शुरू हो जाते हैं।  आपको उसे बताना होगा कि हर किसी की शारीरिक बनावट अलग होती है। यह प्रक्रिया सब लड़कियों के साथ होती है।
     
  2. लंबी बातचीत से बचें- सिर्फ एक ही दिन बेटी से पीरियड पर बात नहीं करें। आपकी इस लंबी बात से वो घबरा सकती है। प्यूबेट्री की उम्र आते ही रोजाना इस विषय पर उसे बात करें। उसके मन में आते हर सवाल का जवाब दें। इससे उसके मन में पीरियडस के प्रति डर नहीं सताएगा। नतीजतन वो इसे सहज स्वीकारेगी।
     
  3. शर्म छोड़ दें- बेटी से पीरियडस की बात खुलकर करें। उसे बताएं कि हर महिला को 11 से 13 की उम्र में पीरियडस शुरू हो जाते हैं। बेटी को बताएं कि आपको  पीरियडस किस उम्र में आरंभ हुए थे। यह जान वो पीरियडस को दैनिक जिंदगी का हिस्सा मान लेगी। यदि बेटी से पिता या कोई पुरुष गार्जियन बात कर रहा है, तो उन्हें भी बेटी से पीरियडस टाॅक करनी होगी।
     
  4. अलर्ट हो जाएं- समय के साथ आप पीरियडस से जुड़ी कुछ बातों को भूल गए होंगे। इसे जीवन का हिस्सा आप स्वीकार कर चुकें हैं, परंतु आपका बच्चा शायद नहीं करे। ऐसे में जरूरी है कि पीरियडस से जुड़ी छोटी से छोटी जानकारी से आप वाकिफ हों, जैसे सैनेटरी पैड को कब-कब बदलें, टैम्पून कैसे इस्तेमाल करें, पैड कैसे डिस्पोज करें आदि। हो सके तो घर में सभी सैनेटरी प्रोडक्टस रखें, ताकि बेटी निर्णय ले पाए कि उसे क्या प्रयोग में लाना है। यही नहीं बेटी को बताएं सैनेटरी प्रोडक्ट टाॅयलेट या उसके बेडरूम में रखे हैं, ताकि जरूरत पड़ने पर वो प्रयोेग कर पाए।

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

इस ब्लॉग को पेरेंट्यून विशेषज्ञ पैनल के डॉक्टरों और विशेषज्ञों द्वारा जांचा और सत्यापित किया गया है। हमारे पैनल में निओनेटोलाजिस्ट, गायनोकोलॉजिस्ट, पीडियाट्रिशियन, न्यूट्रिशनिस्ट, चाइल्ड काउंसलर, एजुकेशन एंड लर्निंग एक्सपर्ट, फिजियोथेरेपिस्ट, लर्निंग डिसेबिलिटी एक्सपर्ट और डेवलपमेंटल पीड शामिल हैं।

  • कमेंट
कमैंट्स ()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें

टॉप पेरेंटिंग ब्लॉग

Sadhna Jaiswal

आज के दिन के फीचर्ड कंटेंट

गर्भावस्था

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}