पेरेंटिंग शिशु की देख - रेख

इन टिप्स को लाएं उपयोग में यदि आपका बच्चा आपको रात में उठाता हो तो?

Supriya Jaiswal
0 से 1 वर्ष

Supriya Jaiswal के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Aug 23, 2018

इन टिप्स को लाएं उपयोग में यदि आपका बच्चा आपको रात में उठाता हो तो

छोटे बच्चे अक्सर रात को उठ जाते है और फिर आपको भी उनके साथ जगना पड़ता है जब तक की वे सो  न जाये ।उठने के बाद  फिर उन्हें किसी भी तरह बहलाने फुसलाने की कोशिशे बेकार साबित होती हैं। उस समय उन्हें जरूरत होती हैं प्यारी सी लोरी के साथ शांत माहौल और मां के गोद की। लोरी सुनाकर बच्चों को सुलाने का चलन बरसों से चला आ रहा है। आज भी मांए अपने बच्चों को लोरी  सुनाकर ही सुलाती हैं। धीरे-धीरे और मीठे स्वर में गाई गई लोरी का बच्चे के दिमाग पर काफी असर होता है इसको सुनते-सुनते वे धीरे-धीरे मीठी नींद की ओर बढ़ने लगते हैं। लोरी ही जरूरी नहीं लोरी बच्चे को सुलाने का सबसे प्यारा तरीका समझा जाता है। लेकिन सिर्फ लोरी ही जरूरी नहीं है इसके साथ बच्चे के शरीर पर हल्की-हल्की थपकी और गोद में उसे धीरे-धीरे झुलाना भी काफी मददगार साबित होते हैं। और यह प्रक्रिया आपको तब तक करनी चाहिए जब तक बच्चा गहरी नींद में ना सो जाए।ऐएसे ही कुछ और तरीके है जिससे आपको बच्चे को अच्छी नींद आयेगी और साथ ही आपको भी बिना उनके जगे आराम से सो पायेंगी |


लोरी सुनते ही बच्चों को नींद आने लगती है -- लोरी की मीठी आवाज से बच्चे का ध्यान आस-पास की आवाजों से हटने लगता है। बच्चों को लगातार गोद में झुलाते रहने से उसकी नजर किसी भी चीज पर नहीं टिक पाती। और थोड़ी ही देर में उसकी आखों में नींद आने लगती है। और वह धीरे-धीरे अपनी आंखों को बंद करने लगता है।
 

 बच्चो के दूध पिलाते  समय -- आमतौर पर देखा जाता है कि बच्चें मां की गोद में स्तनपान करते हुए भी सो जाते हैं। पर जो बच्चे खाने पिने लगते है उनके लिए आप कुछ ऐसे चीजे रखे की अगर उन्हें रात में भूख लगे तो खिला सके |और उसके बाद सिर पर धीरे-धीरे हाथ से सहलाएं जिससे उनकी आंखों में  नींद आने लगे। और जब वह पूरी नींद में सो जाए तो उसे धीरे से बिस्तर पर लेटा दें।
 

गोद में लेकर झुलाएं-- बच्चो को जब नींद आती है तो वो आपकी गोद में झुलना चाहते हैं। ऐसे में बच्चे को अपनी गोद में लेकर दाएं से बाएं झुलाएं। धीरे-धीरे उसकी आंखे बोझिल होने लगती है और वह थकवाट के कारण अपनी आंखे बंद करने पर मजबूर हो जाता है। ध्यान रहे कि ज्यादा से जोर से झुलाने पर बच्चा डर भी सकता है।
 

 प्रैम या स्ट्रॉलर में-- कई बार देखा जाता है कि बच्चा प्रैम या स्ट्रॉलर  में बैठकर आगे-पीछे हिलाते हुए सोना चाहता है। यह प्रक्रिया बार-बार करने पर बच्चा धीरे-धीरे नींद की आगोश में चला जाता है।
 

बच्चे को डराएं नहीं-- कभी भी बच्चों को सुलाने के लिए उसे डराएं नहीं। ऐसा करने से उसके मन में डर बैठ जाएगा जो आगे चलकर उसके व्यक्तित्व के विकास में बाधक होगा।
 

 बच्चों का अकेला ना छोड़ें-- ध्यान रखें कि बच्चों को सोते समय अकेले कमरे में ना छोड़े। जब कभी भी बच्चे की नींद खुलेगी तो वो खुद को कमरे में अकेला पाकर डर सकता है। ऐसे में जरूरी है कि आप उसके आस-पास रहें।
 

विशेष ध्यान रखने वाली बाते-- सुलाने वाली जगह साफ-सुथरी होनी चाहिए,जहां सोए वहां ज्यादा शोर नहीं होना चाहिए,थोड़ी-थोड़ी देर में देखते रहना चाहिए कि बच्चा गीले में तो नहीं सो रहा है,यह देख लें कि बच्चे को कोई परेशानी न हो और उस पर अच्छी तरह ओढ़ना पड़ा हुआ हो,कमरे में अंधेरा होना चाहिए जिससे बच्चे को लगे कि अभी रात है।

 

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • 9
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Oct 04, 2018

mera beta 8 October Ko 4 month ka ho jayega but uska weight kam hai

  • रिपोर्ट

| Oct 03, 2018

Mera beta bahut kam sota hai,din surf 10-15 mint,rat me bhi preshan rahta h,kya krun??

  • रिपोर्ट

| Oct 02, 2018

buijuy11lll1llmkkkoiooppplllllòajkkkkjjJ4a31

  • रिपोर्ट

| Aug 23, 2018

thanks

  • रिपोर्ट

| Jul 30, 2018

Baby ko dent tonic goli kab dena chahiye

  • रिपोर्ट

| Jul 23, 2018

thank for sujeson

  • रिपोर्ट

| Jul 23, 2018

hii mam

  • रिपोर्ट

| Jul 20, 2018

thank u good

  • रिपोर्ट

| Jun 15, 2018

Mostly baby child donot want to sleep at night time and due this parents became angry. Try to help thier babies and pamper so that they feel relax.

  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}