• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
शिक्षण और प्रशिक्षण

क्यों है खास है चंद्र ग्रहण 2019? जरूर बताएं ये 9 खास बातें अपने बच्चों को

Prasoon Pankaj
7 से 11 वर्ष

Prasoon Pankaj के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Jul 11, 2019

क्यों है खास है चंद्र ग्रहण 2019 जरूर बताएं ये 9 खास बातें अपने बच्चों को

आपने नोटिस किया होगा कि आपके बच्चे हर उस चीज के बारे में सवाल पूछते होंगे जिनके बारे में उन्हें जानकारी नहीं होती है। और ये अच्छी बात है कि आपका बच्चा जिज्ञासु प्रवृत्ति का है। 16 जुलाई और 17 जुलाई 2019 के बीच चंद्रग्रहण पड़ने जा रहा है और जब आप अपने घर में इसके बारे में चर्चा करेंगे तो जाहिर है कि आपका बच्चा भी आपसे चंद्रग्रहण से संबंधित सवाल जरूर पूछेगा। तो चलिए आज हम आपको इस ब्लॉग में बताने जा रहे हैं चंद्रग्रहण से संबंधित कुछ रोचक जानकारियां जिन्हें आप अपने बच्चे को बताकर उसका ज्ञान वर्धन कर सकती हैं।

 

कब और क्यों होती है चंद्रग्रहण की घटना/ What is Total Lunar Eclipse in Hindi

16 जुलाई और 17 जुलाई के बीच को लगने जा रहे चंद्रग्रहण का समय तकरीबन 3 घंटे का होगा। रात के 1.32 बजे सुबह के 4.30 बजे तक ग्रहण का प्रभाव रहेगा। इस बार चंद्रग्रहण का असर पूरे भारत के साथ ही ऑस्ट्रेलिया, अफ्रीका, एशिया, यूरोप और दक्षिण अमेरिका में भी होगा। हम आपको ये भी बता दें कि चंद्रग्रहण को पूरे भारत में देखा जा सकता है।

  1. सौरमंडल का हिस्सा है हमारी धरती। सूर्य के चारों तरफ धरती चक्कर लगाती है और पृथ्वी के चारों ओर चंद्रमा घूमता है। चंद्रमा पृथ्वी का उपग्रह है। 
  2. खगोलशास्त्रियों के मुताबिक चंद्रमा धरती की छाया से ढ़क जाती है। इस दौरान गहरे लाल रंग और बदलते दृष्यों को देखना अपने आप में एक मजेदार अनुभव हो सकता है। 
  3. चंंद्रग्रहण उस खगोलीय स्थिति को कहते हैं जब सूर्य, पृथ्वी और चंद्रमा एक सीधी रेखा में अवस्थित हो जाते हैं और चंद्रमा धरती की छाया से निकलता है।  
  4. चंद्रग्रहण पूर्णिमा के दिन ही पड़ता लेकिन ये भी ध्यान रखें कि प्रत्येक पूर्णिमा को चंद्रगहण नहीं पड़ता है
  5. पृथ्वी की कक्षा पर चंद्रमा का कक्षा तकरीबन 5 डिग्री झुका होता है। इस झुकाव की वजह से हर बार चंद्रमा पृथ्वी की छाया में प्रवेश नहीं करता है और इसके ऊपर या नीचे से निकल जाता है। जब धरती की छाया में चंद्रमा प्रवेश कर जाता है तब चंद्रग्रहण की स्थिति आती है
  6. सूर्यग्रहण हमेशा अमावस्या के दिन होता है और चंद्रग्रहण पूर्णिमा के दिन
  7. चंद्रग्रहण पूरी दुनिया में एक साथ ही शुरु होता है और एक साथ ही समाप्त होता है

 

इन वजहों से है खास चंद्रगहण 2019 / Importance of Lunar Eclipse 2019 in Hindi

पिछले साल यानि 27 जुलाई 2018  को चंद्रगहण रात के 11 बजकर42 मिनट पर शुरू हुआ और और 28 जुलाई की सुबह 5 बजे समाप्त हुआ था। पिछले साल के चंद्रगहण को सदी का सबसे लंबा चंद्रग्रहण बताया गया था।

  1. हिंदू पंचांग के अनुसार, इस बार चंद्र ग्रहण आषाढ़ शुक्ल पूर्णिमा को उत्तराषाढ़ा नक्षत्र में पड़ रहा है।

  2. इस बार के चंद्रग्रहण को खंडग्रास चंद्र ग्रहण कहा जा रहा है।

  3. एक बात और है इस बार चंद्र ग्रहण का समय 3 घंटे का होगा।

  4. चंद्रग्रहण को देखना पूरी तरह से सुरक्षित है और इसको देखने के लिए किसी खास उपकरण की आवश्यकता नहीं होती है

  5. पर सूर्यग्रहण देखने के दौरान जरूर सावधानी बरतने की आवश्यकता होती है क्योंकि नंगी आंखों से सूर्यग्रहण को देखने पर आंख खराब होने का खतरा बना रहता है

  6. भारत के महान गणितज्ञ आर्यभट्ट ने ग्रहण से संबंधित वैज्ञानिक सिद्धांत पेश किया था।

  7. आर्यभट्ट ने इस बात को सिद्ध किया कि जब सूर्य और चंद्रमा के बीच पृथ्वी आती है तो पृथ्वी की छाया चंद्रमा पर पड़ने से चंद्रग्रहण होता है।

इससे पहले 16 जुलाई 2000 को सदी का सबसे लंबा पूर्ण चंद्रगहण हुआ था। 

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • कमेंट
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें

Always looking for healthy meal ideas for your child?

Get meal plans
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}