स्वास्थ्य और कल्याण गर्भावस्था

वेरीकोज वेन्स से बचाव के कुछ टिप्स आपके लिए

Parentune Support
गर्भावस्था

Parentune Support के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया May 26, 2018

वेरीकोज वेन्स से बचाव के कुछ टिप्स आपके लिए

 वेरीकोज वेन्स वे नसें होती हैं जो त्वचा की ऊपरी सतह से उभरी हुयी दिखाई देती हैं। अधिक दबाव पड़ने के कारण नसों के वाल्व (द्वार) खराब हो जाते हैं जिसकी वजह से ऐसा होता है।सूजीं, मुड़ीं हुईं और उभरी हुयी ये नसें लाल या नीले रंग की होती हैं जो मुख्य रूप से जाँघों या पिंडलियों में दिखाई देती हैं। महिला एवं पुरुष दोनों में होने वाली समस्या है| लम्बे समय तक एक ही मुद्रा या स्थिति में खड़े रहने की वजह से भी वेरिकोज़ वेन्स की समस्या पैदा हो जाती है| आइये जानते है गर्भावस्था में वेरीकोज वेन्स के कारण और कुछ घरेलु उपाय


गर्भावस्था में वेरीकोज वेन्स -- गर्भावस्था के दौरान वेरीकोज वेन्स होना काफी सामान्य है और ये करीब 40 फीसदी गर्भवती महिलाओं को होती है। एसोसिएशन आॅफ फिजिशियंस आॅफ इंडिया के अनुसार गर्भावस्था वेरीकोज वेन्स होने का एक सबसे महत्वपूर्ण कारण हो सकता है। वेरीकोज वेन्स से आमतौर पर कोई गंभीर समस्या उत्पन्न नहीं होती। बहरहाल, यदि आपको योनि और गुदा के बीच के हिस्से में (पेरिनियम) वेरीकोज वेन्स हो, तो डॉक्टर शिशु के जन्म के दौरान आप पर खास निगरानी रखेंगी।

वेरीकोज वेन्स से बचने के कुछ घरेलु उपाय --

बहुत ज्यादा मोटापे से बचे -- बहुत जल्दी काफी ज्यादा वजन बढ़ने से भी वेरीकोज वेन्स होने का खतरा हो सकता है। इसलिए गर्भावस्था में बहुत ज्यादा वजन बढ़ने से बचे |

संतुलित आहार – संतुलित खानपान ग्रहण करने से कोई भी बीमारी आपको छू भी नहीं पाती तथा आप एक स्वास्थ्यकर जीवन व्यतीत कर पाते हैं। लाभदायक सब्जियां, हरी पत्तेदार सब्जियां, मछलियाँ आदि काफी मात्रा में ग्रहण करें। विटामिन, मिनरल्स, लो फैट और कार्बोहाइड्रेट से युक्त स्वस्थ व संतुलित आहार लें । जंक फ़ूड, आइसक्रीम, तम्बाकू, अल्कोहल, अधिक शक्कर एवं नमक जैसी चीजों से दूर रहें।

ढीले कपड़े पहने – तंग कपड़ों को पहनने से बचें खासकर टाइट जूते और मोज़े कभी न पहने।

एंटीऑक्सीडेंटस  चीजो का प्रयोग -- लहसुन, अदरक और प्याज का सेवन अच्छे से करने पर भी काफी लाभ होता है, क्योंकि ये एंटीऑक्सीडेंटस  की तरह कार्य करते हैं।

लगातार लम्बे समय तक ना बैठे -- लम्बे समय तक कुर्सी पर बैठकर काम करने से भी ये समस्या हो सकती है। छोटे छोटे अंतराल लें, घूमने जाएं, हल्का व्यायाम करें और शरीर को चलायमान बनाए रखें। इन सब चीज़ों के फलस्वरूप आपको वेरिकोज़ नसों की समस्या नहीं सताएगी।

खुजली न करे -- वेरिकोसे नसों की त्वचा खुजली युक्त होती है और इसीलिए इसे खुजलाने का प्रयास ना करें। इससे खून निकलने और अलसर जैसी समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं।

काले जामुन और स्ट्रॉबेरी -- काले जामुन और स्ट्रॉबेरी का काफी मात्रा में सेवन करें। ये वेरिकोज़ नसों के लक्षण को दूर करने में काफी लाभदायक सिद्ध होते हैं।

लेटने ओर सोने का तरीका बदले -- अपने बाईं तरफ होकर लेटे या सोएं। इस तरह इन्फीरियर वीना कावा से दबाव हट सकेगा। अपने पैर तकिये पर रखें और एक तकिया अपनी कमर के पीछे लगा लें।
कुछ हल्के व्यायाम करके अपने रक्त संचरण को जारी रखें।

अरंडी के तेल से मालिश – अरंडी के तेल से मालिश करें । यह तेल रक्त के बहाव को बढ़ाता है और सूजन को कम करता है।

अमरुद खाए  अमरुद जरूर खाएं, इसमें उपस्थित विटामिन सी नसों को मजबूती देता है तथा विटामिन के  खून के बहाव को नियंत्रित करता है।

सरसों के तेल से मालिश  – इस तेल से दिन में दो बार मालिस करने से रक्त परिसंचरण ठीक रहता है और नसों के वाल्व (द्वार) सही तरीके से काम करते हैं।

 

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • कमेंट
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें
टॉप स्वास्थ्य और कल्याण ब्लॉग
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}