शिक्षण और प्रशिक्षण

क्या है पास्ट लाईफ रिग्रेशन थेरेपी

Vidyashree Rai
7 से 11 वर्ष

Vidyashree Rai के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Aug 11, 2018

क्या है पास्ट लाईफ रिग्रेशन थेरेपी

यह एक ऐसा ही मनोवैज्ञानिक तरीका है जिसमे किसी भी इंसान को सम्मोहन के जरिये उसकी बीती ज़िंदगी की यादों मे ले जाया जा सकता है। पास्ट लाईफ रिग्रेशन थेरेपी के जरिये न सिर्फ किसी इंसान के पिछले जन्म की घटनाओ तक पहुचा जा सकता है बल्कि मनोवैज्ञानिक पद्धति के द्वारा कई दिक्कतों से छुटकारा पाया जा सकता है। पास्ट लाईफ रिग्रेशन की प्रक्रिया मे इंसान को चेतना अवस्था मे परिवर्तन किया जाता है। चेतना की इस अवस्था मे इंसान की सुझाव ग्रहण करने की क्षमता मे एकदम से तेजी आ जाती है और वह सुझावो पर अमल भी करने लगता है। इसमे समोहन के जरिये पिछले जन्म की घटनाओ को भी याद कराया जाता है। इसका उदेश्य इंसान के वर्तमान परेशानी तक पहुचना होता है जैसे की कोई डर, रिश्ते मे दिक्कत, कोई बीमारी । उस घटना तक पहुचकर इस के माध्यम से इंसान को उससे जुड़ी दिक्कत को वही छोड़ने की आदेश दी जाती है। इससे इंसान उस पीड़ा, दिक्कत या डर से छुटकारा पा लेता है।
 

पास्ट लाईफ थेरेपी कब मददगार हो सकते है(पीएलआरटी) / When Past Life Therapy Can Be Helpful

लगभग हर प्रकार की चिकित्सा यह मानती है कि एक व्यक्ति के पिछले दुख के प्रभाव और महत्वपूर्ण घटनाएं वर्तमान पर प्रभाव डालती हैं।पीएलआरटी मानता है कि अचेतन मन इस जीवनकाल से परे चला जाता है। यह बचपन, जन्म के पूर्व और जन्म काल से परे कि घटनाओं,नतीजों और उन घटनाओं का आपके वर्तमान पे हो रहे असर को पता लगाता है।

  • लम्बे समय के प्रयासों के बावजूद, व्यवहार और रवैया मे परिवर्तन ना आने के चलते परेशान रहना
  • किसी रिश्ते मे खुद को दूसरे व्यक्ति के लिए तीव्र आकर्षण,घृणा, दुशमन आदि महसुस करना ।
  • भय - तीव्र भय, जैसे उचाई या पानी का डर जो वर्तमान जीवन में किसी भी अनुभव से जुड़ा नही हैं।
  • कुछ पुरानी शारीरिक बीमारियां, उत्तेजना और दर्द।
  • आपके जीवन के दौरान प्रतीत होने वाले प्रमुख दृष्टिकोण या भावनाएं।
  • आपके मान्यताये जैसे कि "मुझे अकेला छोड़ दो", "कोई भी मुझे नहीं समझता", "जीवन उचित नहीं है", "मुझे अकेले ही करना है"
     

क्या यह प्रक्रिया सुरक्षित है -- यह एक बहुत ही सुरक्षित मनोचिकित्सा है। इसमे किसी भी बेहोशी की दवाई या किसी भी प्रकार के केमिकल का इस्तेमाल नहीं किया जाता है। यह आपकी इंद्रियों दृष्टि, ध्वनि, स्पर्श, स्वाद, गंध  और प्राकृतिक सुझबूझ या अंतर्ज्ञान को शामिल करता है ।इसमे आपके शरिर को आराम करने और अपने दिमाग को खोलने को कहा जाता है, इसके लिये आपको कुछ नही करना होता ,आपके विचार / दर्शन या भावनाएं आपको आती जयेंगी और आप बोलते जायेंगे इस प्रकिया मे  सम्मोहन तकनीक का उपयोग भी किया जता है।

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • कमेंट
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}