• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
खाना और पोषण

बच्चे को भिंडी से करा दें दोस्ती, कई गंभीर बीमारी से होगा बचाव

Sadhna Jaiswal
3 से 7 वर्ष

Sadhna Jaiswal के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Jun 23, 2020

बच्चे को भिंडी से करा दें दोस्ती कई गंभीर बीमारी से होगा बचाव
विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

हरी सब्जियों में अपना अलग स्थान रखने वाली एक सब्जी जिसे भिन्डी कहा जाता है, सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद होती है। ज्यादातर बच्चे भिन्डी को खाने में बहुत पसंद करते है लेकिन कुछ बच्चे ऐसे भी होते है जिन्हें भिन्डी बिलकुल भी पसंद नहीं आती।  भिन्डी बच्चो को पसंद आये इसके लिए पेरेंट्स क्या करें? पेरेंट्स को ये जानना होगा की भिन्डी औषधीय गुणों से भरपूर है। ये कई गंभीर बीमारियों से हमारा बचाव करती है। भिंडी से निकलने वाली चिकनाई कैंसर और हार्ट प्रॉब्लम जैसी कई गंभीर बीमारियों से बचाने में मदद करती है। भिंडी में फाइबर्स, पोटैशियम, आयरन, कैल्शियम, फॉस्फोरस, मैग्नीशियम और जिंक होता है। भिंडी खाने से खून की कमी पूरी होती है। इससे हड्डियां मजबूत होती हैं। और इससे दांत हेल्दी रहते हैं। और गम की प्रॉब्लम से भी बचाव होता है। इसीलिए बच्चो को भिन्डी से दोस्ती करना बहुत जरुरी है अगर आपका बच्चा भिन्डी पसंद नहीं करता है, तो जो डिश बच्चे को पसंद है उसमे उसे थोड़ी-थोड़ी भिन्डी ऐड करके खिलाये। धीरे-धीरे बच्चा जब भिन्डी के टेस्ट को जानेगा तो उसे ये जरुर पसंद आएगी। आप भिन्डी बच्चो को अलग-अलग तरीके से बना के दे सकती है। जैसे भरवा भिन्डी या भिन्डी विद मेगी मसाला। बच्चे को भिन्डी के फायदों के बारें में बताये उसे भिन्डी खाने के लिए प्रोत्साहित करें।  लगातार प्रयास करने से बच्चे की भिन्डी से दोस्ती हो ही जाएगी। सभी पेरेंट्स को पता होता है अपने बच्चो को कैसे मानना है। तो आईये जानते है की भिन्डी खाने से कौन सी गंभीर बीमारियों से बचाव होता है।  


भिंडी खाने से इन बीमारियों से होगा बचाव /  Lady Finger Is Prevented From These Diseases
 

  1. भिन्डी को अपने बच्चे के आहार में जरुर शामिल करें। भिन्डी कैंसर जैसी बीमारियों को दूर भगा सकता है। खासतौर पर कोलन कैंसर को दूर करने के लिए भिन्डी बहुत फायदेमंद है। यह आतो में मौजूद विशेले तत्व को बहार निकालने में मदद करती है। जिससे आतें स्वस्थ रहती है और बेहतर तरीके से कार्य करती है।  
  2. भिन्डी आपके बच्चे के ह्रदय को भी स्वस्थ रखती है। इसमें मौजूद पेक्टिन कॉलेसट्रोल को कम करने में मदद करता है। साथ ही इसमें पाया जानेवाला घुलनशील फाइबर रक्त में कॉलेसट्रोल को नियंत्रित करता है। जिससे ह्रदय रोग का खतरा कम होता है।  
  3. भिन्डी में पाए जाने वाले युगनोल, डाइबटिज के लिए बेहद फायदेमंद साबित होता है। ये शरीर में शुगर के स्तर को बढ़ने से रोकता है।  जिससे डाइबटिज का खतरा कम हो जाता है।  
  4. भिन्डी खाने से अनीमिया होने के चांसेस भी कम हो जाते है। भिन्डी अनीमिया को रोकने में भी काफी लाभदायक होती है। इसमें मौजूद आयरन हिमोग्लोबिन का निर्माण करने में सहायक होते है और विटामिन-के रक्त स्त्राव को रोकने का कार्य करता है।  
  5. भिंडी बच्चो को खिलाने से उनका डाइजेशन ठीक रहता है। भिन्डी फाइबर से भरपूर सब्जी है इसमें मौजूद चिपचिपा फाइबर पाचन तंत्र के लिए बेहद फायदेमंद होता है। इससे पेट फूलना, कब्ज, दर्द, और गैस जैसी समस्याए नहीं होती।  
  6. भिन्डी में पाया जाने वाला चिपचिपा पदार्थ आपके बच्चे की हड्डियों को मजबूत बनाता है। इसमें विटामिन-के हड्डियों को मजबूत बनाने में सहायक होता है।  
  7. भिन्डी में विटामिन-सी होने के साथ-साथ यह एंटी-ओक्सिडेंट से भी भरपूर होती है। जिसके कारण यह इम्मुन सिस्टम को मजबूत करके शरीर को बीमारियों से लड़ने में मदद करती है। इसे भोजन में शामिल करने से कई बिमारियां जैसे खासी,ठण्ड जैसी समस्याए भी नहीं होती।  
  8. भिन्डी खाने से आँखों की रौशनी भी ठीक रहती है। भिन्डी विटामिन-ए, बीटा, कैरोटीन और एंटी-ओक्सिडेंट से भरपूर होती है। जो सेल्युलर चयापचय से उपजे मुक्त कणों को समाप्त करने में सहायक होती है। ये कण नेत्रहीनता के लिए जिम्मेदार होते है।  
  9. भिन्डी वजन को कम करने के साथ-साथ आपके बच्चे के त्वचा पे ग्लो बनाये रखने में भी मदद करती है।  भिंडी खाने से स्किन और बाल हेल्दी रहते हैं। हमेशा ताजी, पतली और मुलायम भिंडी ही खाएं।

 अपने बच्चे की भिन्डी से कराये दोस्ती, जिससे आपका बच्चा रहेगा स्वस्थ और कई गंभीर बीमारियों से दूर।  भिन्डी कई औषधीय गुणों से भरपूर है, इसे अपने बच्चे के आहार में जरुर शामिल करें और स्वस्थ रहे। 

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

इस ब्लॉग को पेरेंट्यून विशेषज्ञ पैनल के डॉक्टरों और विशेषज्ञों द्वारा जांचा और सत्यापित किया गया है। हमारे पैनल में निओनेटोलाजिस्ट, गायनोकोलॉजिस्ट, पीडियाट्रिशियन, न्यूट्रिशनिस्ट, चाइल्ड काउंसलर, एजुकेशन एंड लर्निंग एक्सपर्ट, फिजियोथेरेपिस्ट, लर्निंग डिसेबिलिटी एक्सपर्ट और डेवलपमेंटल पीड शामिल हैं।

  • कमेंट
कमैंट्स ()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें
Sadhna Jaiswal

आज के दिन के फीचर्ड कंटेंट

गर्भावस्था

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}