पेरेंटिंग खाना और पोषण

जानना जरूरी है कि बच्चे को कौन सा आहार नहीं दें

Supriya Jaiswal
1 से 3 वर्ष

Supriya Jaiswal के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Aug 17, 2018

जानना जरूरी है कि बच्चे को कौन सा आहार नहीं दें

सबसे मूलभूत आवश्यकता भोजन को ही माना जाता है। बड़े बुजुर्ग कहते हैं कि जो जैसा अन्न खाएगा उसकी वैसी ही बुद्धि होगी। यानि कि आप अपने बच्चे को किस तरह का खाना खिला रहे हैं ये बहुत महत्वपूर्ण होता है। बच्चे को समय-समय पर कुछ खाने को देना ,खेलने के बाद कुछ स्नैक्स देना और ये भी ध्यान में रखना की वो जो खा रहे है वो उनके स्वास्थ्य के लिए लाभकारी है या नहीं। आज हम आपको कुछ ऐसे ही कुछ खाद्य पदार्थ के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्हें आपको अपने बच्चे को खिलाने से बचना चाहिए 

ये हैं वे खाद्य पदार्थ जिन्हें बच्चे को नहीं खिलाना चाहिए / Foods that Child Should Not Feed

अब हम आपको बताने जा रहे हैं उन खाद्य पदार्थों के बारे में जिन्हें आपको अपने बच्चे को खिलाने से परहेज करना चाहिए

  • माइक्रोवेव पॉपकॉर्न - माइक्रोवेव पॉपकॉर्न के बैग को लाइन करने के लिए परफ्लौरोओक्टोनिक  एसिड, या पीएफओए रसायन का प्रयोग किया जाता है ताकि वे आग न पकड़ सकें। पीएफओए को कैंसर, बच्चो के युवावस्था में देरी , थायराइड रोग और बच्चों में उच्च कोलेस्ट्रॉल से जोड़ा गया है।इसलिए बच्चो को माइक्रोवेव पॉपकॉर्न कभी ना दें।
     
  • सुगरी सीरियल्स -- बच्चे जब साधारण अनाज नहीं खाते है तो हम उन्हें  सुपरर्मर्केट में मिलने वाले रंग बिरंगे, अलग - अलग कार्टून वाले सीरियल्स बच्चो के लिए लाते है ,जिसमे लिखा तो होता है की पूरा अनाज ,अधिक फाइबर ,कैल्शियम आदि है  पर उनमे चीनी की मात्रा बहुत अधिक होती है जो बच्चो के लिए सही नहीं होता है।
     
  • पैकेट वाले जूस -- हम अपने बच्चो को डिब्बा बंद जूस देना पसंद करते है क्युकी ये एक आसान तरीका लगता है बच्चो को पौष्टिक चीज देने का लेकिन डिब्बा बंद जूस में जूस नहीं चीनी होता है |खास कर के सेब का जूस जो आज कल के बच्चो को बहुत पसंद है पर इसमें बहुत ज्यादा मात्रा में चीनी होता है जो बच्चो को नुकसान करता है।
     
  •  बच्चों के योगर्ट  -- बच्चों के लिए दही एक अद्भुत स्वस्थ भोजन है लेकिन बच्चों वाले योगर्ट नहीं। क्योंकि यह सुगन्धित रंगों और चीनी से इतना भरा हुआ है कि यह भोजन में होने वाले स्वास्थ्य लाभ को भी अस्वीकार करता है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आपको अपने बच्चो को दही खिलाना पूरी तरह से छोड़ना होगा। बस सादा खरीदें और उसमे फल, किशमिश, या शहद डालकर इसे मीठा करें।
     
  • डिब्बाबंद टमाटर-- यह आपको आश्चर्यचकित कर सकता है। लेकिन शायद आपने बीपीए, या बिस्फेनॉल-ए के बारे में सुना है, नरम प्लास्टिक से कैश रजिस्टर रसीदों तक, डिब्बाबंद खाद्य पदार्थों में पाए जाने वाले रासायनिक योजक होते है । टमाटर की प्राकृतिक अम्लता कि वजह से अधिक बीपीए डिब्बे से बाहर निकलते हैं। बीपीए बचपन में मोटापा, अस्थमा, प्रजनन परिवर्तन, थायरॉइड डिसफंक्शन, मधुमेह, और जिगर की समस्याओं से जुड़ा हुआ है। यह एक रसायन है जिसेका उपयोग करने से बचना चाहिए।
     
  • फ्रोजेन फूड्स -- फ्रोजेन चिकन पकोड़े, मछली और मोज़ेरेला स्टिक्स आमतौर पर सोडियम, संतृप्त वसा, और दब्बो में बंद करने वाली औसधी डाल कर उन्हें लम्बे समय तक फ्रिज में रखते है | इसमें खराब गुणवत्ता वाले चिकन, मछली या पनीर होते हैं| आप बच्चो को ताज़ा मिलने वाले पदार्थ खिलाये।

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • 5
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Aug 17, 2018

bachhe ke lie oat kaisa rhta h.. ?

  • रिपोर्ट

| Aug 17, 2018

very nice information

  • रिपोर्ट

| Aug 17, 2018

Sahi kaha

  • रिपोर्ट

| Aug 17, 2018

nice

  • रिपोर्ट

| Jul 25, 2018

bhut achaa

  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}