• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
पेरेंटिंग शिशु की देख - रेख

डब्ल्यू (W) सिटिंग पोजिशन में बैठने से नुकसान, क्या आपका बच्चा भी ऐसे बैठता है ?

Prasoon Pankaj
1 से 3 वर्ष

Prasoon Pankaj के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Aug 02, 2019

डब्ल्यू W सिटिंग पोजिशन में बैठने से नुकसान क्या आपका बच्चा भी ऐसे बैठता है

पैरेंट्स को बच्चों की हर छोटी-बड़ी गतिविधियों पर नजर रखनी होती है। उन्हें सही-गलत चीजें समझानी होती हैं। उन्हें कई चीजें सिखानी होती हैं। पैरेंट्स इस जिम्मेदारी का निर्वाह भी अच्छे से करते हैं। अभिभावकों को उनके खाने, सोने, बोलने व स्वास्थ्य की खूब चिंता रहती है। पर इन सबके बीच कुछ छोटी-मोटी बातें ऐसी भी होती हैं, जिन पर वे ध्यान नहीं देते और आगे चलकर ये बच्चों के लिए बड़ी समस्या बन जाती है। इन्हीं में से एक है बच्चों का बैठना। बच्चे कैसे उठ-बैठ रहे हैं, इसे पैरेंट्स नजरअंदाज कर देते हैं। अक्सर बच्चा डब्ल्यू पोजिशन में बैठता है, जिससे बच्चे को काफी दिक्कतें आती हैं। इस ब्लॉग में हम बताएंगे कि इस तरह बैठने के नुकसान क्या हैं और कैसे बच्चों को बैठने का सही तरीका सिखाया जाए।

क्या है डब्ल्यू (W) सिटिंग पोजिशन और बच्चे ऐसे क्यों बैठते हैं / W Sitting: What is it and why should I correct it In Hindi

बच्चे जब अपने कूल्हों पर बैठकर घुटनों को मोड़ लेते हैं और पैरों को बाहर की तरफ फैलाते हैं तो यह डब्ल्यू पोजिशन होती है। अधिकतर बच्चे इस स्थिति में तब बैठते हैं जब वह बिना किसी बाहरी समर्थन के अपने शरीर को सीधा रखने की कोशिश करते हैं। डब्ल्यू पोजिशन में किसी भी तरह की मांसपेशियों की ताकत की जरूरत नहीं होती, इसलिए यह बैठने की सबसे आसान और आरामदायक पोजिशन है, लेकिन इस तरह बैठना मांसपेशियों व शारीरिक विकास को प्रभावित करता है।

डब्ल्यू (W) सिटिंग पोजिशन से नुकसान / What's wrong with W-sitting In Hindi

इस पोजिशन में बैठने से बच्चों को तो आराम महसूस होता है, लेकिन इससे उन्हें कई तरह की शारीरिक दिक्कतें हो सकती हैं, जिस बात को वे नहीं जानते। ऐसे में पैरेंट्स के लिए यह बहुत जरूरी है कि वे बच्चों को इस पोजिशन में बैठने के लिए टोकें और उन्हें हतोत्साहित करें। आइए जानते हैं इस पोजिशन में बैठने से होने वाले नुकसान के बारे में।

  • इस तरह बैठने से बच्चे के शरीर का मुख्य भाग पर्य़ाप्त तनाव प्राप्त नहीं कर पाता है, जिससे विकास के दौरान यह कमजोर हो जाता है। इस वजह से बच्चों को चलने व दौड़ने में दिक्कत आती है।

  • डब्ल्यू पोजिशन की वजह से बच्चे की जांघ की मांसपेशियों को लचीले स्वभाव से आराम करने का मौका नहीं मिल पाता है। इसकी वजह से पैर सामान्य अवस्था में भी एक प्रकार की कठोरता विकसित कर लेते हैं। इससे बच्चे को दिक्कत होती है।

  • इस तरह बैठने से जांघ की मांसपेशियां कड़ी हो जाती हैं, जब यह लंबे समय तक बना रहता है तो यह उन जोड़ों को भी प्रभावित कर सकता है। इससे पैरों में अकड़न की समस्या आती है। इससे बच्चे के चलने का तरीका अजीब हो जाता है।

  • इस तरीके से बैठने से शरीर का ऊपरी हिस्सा एक विशिष्ट स्थिति में रह जाता है, जबकि शुरुआती वर्षों में बच्चों के शरीर का कई तरह के तनाव व गतिविधियों से गुजरना जरूरी होता है। इससे शरीर का हर हिस्सा ठीक से विकसित होता है। पर डब्ल्यू सिटिंग पोजिशन में न तो पीठ पर कोई तनाव पड़ता है और न शरीर के ऊपरी हिस्से पर। इस वजह से पीठ कमजोर हो जाती है।

  • इस पोजिशन से कूल्हों पर अधिक दाबव पड़ता है, जिससे बच्चों को कूल्हे की अव्यवस्था से संबंधित समस्याएं होती हैं।

  • इस तरह बैठने से जांघ की मांसपेशियों के साथ ही जोड़ों पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। ऐसे में जोड़े भी कमजोर हो जाते हैं।

पैरेंट्स क्या करें

बेशक बच्चे को बैठने के लिए डब्ल्यू सिटिंग पोजिशन बेहतर लग रही हो, लेकिन आपको अलर्ट होने की जरूरत है। बच्चों को सही-गलत की जानकारी नहीं होती, इसलिए वह खुद इस आदत को नहीं छोड़ सकते। ऐसे में आपको इस आदत को बदलने की कोशिश करनी होगी। यहां हम बता रहे हैं कि आप कैसे इसे बदल सकते हैं।

  1. बच्चे के शारीरिक विकास पर ध्यान दें  - आपको बच्चे के शारीरिक विकास पर ध्यान देना होगा। इसके लिए आप उसे तैराकी, साइक्लिंग व अन्य आउटडोर गेम्स में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करें। इससे वह इस तरह बैठने से बचेगा।

  2. बच्चों को लगातार टोकें – जब कभी बच्चा इस पोजिशन में बैठा दिखे तो उसे फौरन टोकें। उसे इसके होने वाले नुकसानों के बारे में बताएं। उसे इनाम का लालच देकर भी इस तरह से बैठने से रोक सकते हैं।

  3. सही तरीका बताएं – बच्चे को गलत करने से रोकना ही काफी नहीं है, बल्कि आपको उसे सही चीजें भी बतानी चाहिएं। जब आप बच्चे को इस तरह से बैठने से टोकें, तो उसे साथ ही बैठने का सही तरीका भी बताएं, जैसे आलथी-पालथी मारकर बैठना।

  4. एक्सरसाइज बताएं – बच्चा अगर थोड़ा बड़ा है और इस आदत को बदलने में देरी कर रहा है। तो आपको उसे ऐसे एक्सरसाइज के बारे में बताना चाहिए, जिससे उसका शारीरिक विकास हो। इसके लिए आप बाल रोग विशेषज्ञ से भी मिल सकते हैं।

  5. एक प्रशिक्षित ट्रेनर की देखरेख में योग शुरू कराना भी आपके बच्चे के लिए फायदेमंद हो सकता है। योग से कोर मजबूत होगा।

  6. छोटे बच्चों को मालिश करें – इस तरह से बैठने वाले छोटे बच्चों की पीठ और जाड़ों पर आपको नियमित मालिश करनी चाहिए। इससे उनमें मजबूती आएगी।

  7. विकल्प दें – अगर बच्चे को डब्ल्यू पोजिशन के अलावा किसी अन्य मुद्रा में बैठने में दिक्कत आ रही है, तो आप उसे कुछ विकल्प दे सकती हैं। जैसे आप उसे एक स्टूल या कुर्सी दें और इसी पर बैठने को कहें।   

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • 3
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Aug 08, 2019

mera beta 3 yr ka h but wo kabhi w sitting me nhi betha phir bhi uske legs k knees paas pass me h kya karu plz give me answer

  • रिपोर्ट

| Aug 06, 2019

ise thik krne ki koi exercise

  • रिपोर्ट

| Aug 03, 2019

thank you for information! mera baby bhi w psition me baithta hai pr ab nahi baithne dungi. thanks again! 🙏

  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें
टॉप पेरेंटिंग ब्लॉग

Always looking for healthy meal ideas for your child?

Get meal plans
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}