स्पेशल नीड्स बाहरी गतिविधियाँ

अकेली व कामकाजी महिलाओं के लिए सुरक्षा उपाय, आजमाएं 4 महिला सुरक्षा मोबाइल एप्स

Prasoon Pankaj
गर्भावस्था

Prasoon Pankaj के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Sep 01, 2018

अकेली व कामकाजी महिलाओं के लिए सुरक्षा उपाय आजमाएं 4 महिला सुरक्षा मोबाइल एप्स

देश की आधी आबादी कितनी सुरक्षित है? क्या हमारे देश में महिलाओं की सुरक्षा (women safety) को लेकर किए जा रहे उपायों से आप संतुष्ट हैं? जून 2018 में थॉमसन रॉयटर्स फाउंडेशन की तरफ से कराए गए सर्वे की माने तो महिलाओं की सुरक्षा के मामले में भारत की स्थिति सीरिया और अफगानिस्तान जैसे युद्ध प्रभावित देशों से भी कमजोर हैं। इस सर्वे के मुताबिक भारत महिलाओं के लिए सबसे खतरनाक देशों में पहले स्थान पर, उसके बाद अफगानिस्तान, तीसरे नंबर पर सीरिया, सोमालिया चौथे नंबर पर और सऊदी अरब पांचवे स्थान पर है। अमेरिका का स्थान इस लिस्ट में 10वें नंंबर पर है। सर्वे की ये रिपोर्ट निश्चित रूप से हम सबको शर्मसार कर देने वाली है। अब सवाल ये है कि इस समस्या का समाधान क्या है? मेरा मानना है कि सिर्फ सरकार या पुलिस के भरोसे बैठने की बजाय महिलाओं को सशक्तिकरण की राह पर चलने के लिए प्रेरित करना ही इसका सबसे बड़ा समाधान हो सकता है। आज इस ब्लॉग में हम बताने जा रहे हैं कि महिलाओं की अपनी सुरक्षा (women self-safety) के लिए आत्मनिर्भर बनने के लिए किन अहम बातों का ख्याल रखना चाहिए।

 

जो महिलाएं अकेली रहती हैं उनके लिए सुरक्षा टिप्स/ Self-Safety Tips for Women Living Alone in Hindi

आज के समय में अधिकांश लड़कियां पढ़ाई-लिखाई या फिर जॉब के सिलसिले में अकेली रहती हैं तो ऐसे में अपनी सुरक्षा के लिए उनको खास एहतियात बरतने की आवश्यकता है।

  • अगर आप नए घर में शिफ्ट हो रही हैं या फिर नया मकान किराया पर ले रही हैं तो सबसे पहले वहां के माहौल, परिवेश के बारे में जानकारी जरूर प्राप्त कर लें। क्या वहां पर सुरक्षा गार्ड्स के इंतजाम हैं या नहीं ये जरूर चेक कर लें।
     
  • कभी भी कॉलबेल बजने पर अचानक से दरवाजा ना खोल दें। पहले ये जानने का प्रयास करें कि वो आदमी आपका परिचित है या नहीं। अनजान व्यक्ति के लिए दरवाजा ना खोलें। सिक्योरिटी चेन का प्रयोग करें।
     
  • समय-समय पर अपना रूटीन बदलते रहना भी जरूरी है। एक जैसा रूटीन रखने पर कोई भी आपके बारे में सबकुछ जानकारी हासिल कर सकता है।
     
  • घर में काम करने के लिए किसी भी अनजान व्यक्ति को रखने से पहले उसके बारे में पर्याप्त जानकारी इकट्ठा कर लें। 
     
  • रात को सोने से पहले सभी दरवाजों को जरूर चेक कर लें

घर के बाहर महिलाओं के लिए आत्म​-सुरक्षा टिप्स/Safety Tips for Women Outdoors In Hindi

 

घर से बाहर निकलने पर आपको और अधिक सावधान रहने की जरूरत है, इस बात को ध्यान में रख लें कि आपकी सुरक्षा आपकी सतर्कता पर ही निर्भर करता है।

  1. घर से बाहर निकलें तो अपने पास में कुछ जरूरी सामानों को रखना बिल्कुल ना भूलें जैसे की मिर्ची स्प्रे, पेपर स्प्रे। इनको ऐसे जगह पर रखें ताकि आप जरूरत पड़ने पर इनको आसानी से निकाल कर प्रयोग में ला सकें। अगर कभी हमलावर ने आप पर एटैक किया तो वैसी स्थिति में आप उसकी आंखों में स्प्रे कर भाग सकती हैं।
     
  2. कई बार होता ये है कि लोग सड़कों पर चलते समय हेडफोन लगा कर गाने सुनते हुए चलते हैं। ये गलत आदत है। चेन स्नैचर अक्सर इस तरह के मौके का लाभ उठाकर पीछे से हमला कर देते हैं। संभलने का मौका तक नहीं मिल पाता है।
     
  3.  सड़क पर चलते समय भी सतर्क रहें। अगर आपको किसी शख्स की गतिविधि गलत लग रही है तो शोर मचाकर भीड़ इकट्ठा कर अपनी सुरक्षा कर सकती हैं।
     
  4. सबसे जरूरी बात की आपके अंदर किसी भी परिस्थिति का सामना करने के लिए आत्मविश्वास और साहस होना चाहिए। 
     
  5.  कई बार देखा गया है कि बहादुर महिलाओं ने अपने आसपास की चीजें जैसे पर्स, डंडे, सैंडल, पानी की बोतल को ही अपना हथियार बना कर हमला करने वाले को पराजित कर दिया।
     
  6.  कैसे भी बुरे हालात हों, आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि खुद को बचाने के लिए आपको हर संभव प्रयास करना है। 
     
  7. आत्मसुरक्षा के लिए सरकारी और प्राइवेट संस्थानों में बाकायदा प्रशिक्षण दी जाती है। आपको भी चाहिए की इस तरह का प्रशिक्षण जरूर प्राप्त कर लें।

महिलाओं की सुरक्षा के लिए बेस्ट मोबाइल एप्स​ / Best Mobile Apps For The Protection Of Women In Hindi

आजकल अधिकांश महिलाओं के हाथों में स्मार्ट फोन होता है। महिलाओं की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए प्ले स्टोर पर बहुत सारे ऐसे एप्स (Mobile apps) हैं जो आपके द्वारा तय किए गए इमरजेंसी कॉन्टैक्स को अलर्ट और जीपीएस लोकेशन भेज देते हैं। ये एप्स यूज करने में सुविधाजनक भी हैं।आइये जानते हैं इन सुरक्षा एप्स (Women self-safety mobile apps) के बारे में। 

  1. सेफ्टीपिन (Safetipin)  इसमें जीपीएस ट्रैकिंग, इमर्जेंसी कॉन्टैक्ट नंबर और सेफ लोकेशन का रास्ता बताने जैसे सभी जरूरी फीचर हैं। सबसे बड़ी बात की ये एप हिंदी, इंग्लिश और अन्य कई भाषाओं में उपलब्ध है।
     
  2. रक्षा- विमिन सेफ्टी अलर्ट (Raksha - women safety alert)- इसमें एक बटन है जो आपके करीबी लोगों को आपकी मौजूदा लोकेशन और समस्या की स्थिति के बारे में जानकारी दे देता है। अगर आप मुसीबत में फंसी हैं और एप नहीं खोल पा रही हैं तो वैसी स्थिति में आप वॉल्यूम को 3 सेकेंड तक प्रेस करके भी अलर्ट भेज सकते हैं। इसमें SOS फंक्शन भी है यानि कि वैसी जगह जहां पर इंटरनेट का नेटवर्क नहीं काम कर रहा है तो वहां से SMS भेजा जा सकता है।
     
  3. हिम्मत (Himmat)- हिम्मत फ्री सेफ्टी एप है और इस एप को दिल्ली पुलिस की तरफ से जारी किया गया है। इस एप को प्रयोग में लाने के लिए आपको दिल्ली पुलिस की वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन कराना होगा। रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया को पूरा कर लेने के बाद OTP आपके मोबाइल पर भेजा जाएगा। एप को कॉन्फीगर करने के समय इस ओटीपी को एंटर करना होगा। इसमें भी SOS अलर्ट की सुविधा मौजूद है। सबसे खास बात ये है कि आपात स्थिति में आपके लोकेशन की जानकारी और ऑडियो-वीडियो दिल्ली पुलिस के कंट्रोल रूम को मिल जाएगी। 
     
  4. बीसेफ (bSafe) बीसेफ ऐप से आपके करीबी रिश्तेदार जीपीएस के जरिए पता लगा सकते हैं कि आप कहां हैं।  इसमें एक गार्डियन अलर्ट बटन भी है, जो मुश्किल हालात में फंसने पर तुरंत आपके परिजनों या दोस्तों को जीपीएस लोकेशन और विडियो भेज देता है।

 

इसके अलावा भी कई सारे एप्स हैं जो महिलाओं की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए बनाए गए हैं। इन उपायों की मदद से आप खुद को सुरक्षित महसूस कर सकती हैं।

 

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • कमेंट
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}