शिक्षण और प्रशिक्षण

अपने बच्चे को लिखना कैसे सीखाएं?

Parentune Support
3 से 7 वर्ष

Parentune Support के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Jul 10, 2018

अपने बच्चे को लिखना कैसे सीखाएं

हर पैरेंट्स चाहते हैं कि उनका बच्चा जल्दी से पढ़ना व लिखना सीखे। इसके लिए वह 2 साल से ही बच्चों को प्ले स्कूल भेजने लगते हैं। अच्छे माहौल की वजह से बच्चा प्ले स्कूल में तो खुशी-खुशी जाता है, लेकिन लिखना वह नहीं सीख पाता। ऐसे में पैरेंट्स इस बात से परेशान रहते हैं कि आखिर उनका बच्चा कब लिखना शुरू करेगा। आज इस ब्लॉग में हम आपको बताएंगे कि आखिर कैसे अपने बच्चे को लिखना सिखाएं।

बच्चे को लिखना सीखाने में ये उपाय होंगे कारगर/  effective tips in learning to write a child in hindi

  • मोटिवेट करें – जिंदगी में किसी भी काम के लिए बच्चे को मोटिवेट यानी प्रोत्साहित करना बहुत जरूरी है। इसी से बच्चे के अंदर कॉन्फिडेंस आता है। लिखने की कला सिखाने के लिए भी यह बहुत जरूरी है। जब कभी बच्चा जरा सा पेन चलाए या कुछ भी ड्रॉ करे तो उसे प्रोत्साहित करें। उसे कभी ये कहकर हतोत्साहित न करें कि तुम्हें तो कुछ नहीं आता। अगर आप बच्चे को मोटिवेट करेंगे तो वह जरूर अच्छा करेगा। बच्चे को जबरन लिखने को न कहें। इससे वह और भागेगा। 
  • पेंसिल व पेन पकड़ना सिखाएं – बच्चे को पेंसिल या पेन दें इसके बाद उन्हें दिखाएं कि उसे कैसे पकड़ना है। उसे उंगली व अंगूठे के बीच पेन पकड़ने की सलाह दें। अगर उसका ग्रिप मजबूत हो जाएगा, तो लिखने में दिक्कत नहीं होगी। 
  • इंट्रेस्ट पैदा करें – बच्चे में इंट्रेस्ट पैदा करना बहुत जरूरी है। बिना रूचि के वह कोई काम नहीं करेगा। आजकल बाजार में कई तरह के स्टाइलिश अल्फाबेट, काउंटिंग वर्ड्स उपलब्ध हैं। बाजार से मैग्नेटिक अल्फाबेट लेकर आएं और उसे अलमारी या फ्रिज पर लगा दें। फिर धीरे-धीरे बच्चे को उसकी पहचान कराएं। इसके बाद उसे पेंसिल देकर टॉफी व अन्य चीजों का लालच देते हुए उन शब्दों को लिखने के लिए कहें।
  • बच्चे के सामने खुद भी लिखें – बच्चे अक्सर बड़ों की नकल करते हैं। वह बड़ों को जो करते देखते हैं उसे दोहराने लगते हैं। ऐसे में आप बच्चे को दिखाते हुए कुछ लिखने लगें। आपको देखकर वह भी लिखने की जिद करेगा। जब वह ऐसा करे, तो उसे पेंसिल व कागज देते हुए लिखने को कहें।
  • बच्चे को रंग लाकर दें -  बच्चे रंग काफी पसंद करते हैं। ऐसे में आप रंगों की मदद से भी उनमें लिखने की इच्छा जगा सकते हैं। उन्हें रंग लाकर दें और किसी भी पेपर पर उसे चलाने को कहें
  • रफ कॉपी या स्लेट दें – अगर आपके बच्चे को पेन, पेंसिल व चॉक पकड़ना आ गया है, तो उसे रफ कॉपी या स्लेट लाकर दें। इसके बाद उसे उस पर कुछ भी चलाने को कहें। इससे उसकी लिखने की प्रैक्टिस होगी। 
  • ट्रेस करने का तरीका अपनाएं – बच्चा जब पेन या पेंसिल पकड़ना सीख जाए तो उसे पेज या स्लेट पर डॉट-डॉट के माध्यम से कुछ अक्षर या गिनती लिखकर दें। इसके बाद उसे उस डॉट को मिलाने के लिए कहें। इससे वह आसानी से लिखना सीख जाएगा। इसके अलावा किसी तस्वीर या आकार को भी ट्रेस यानी उस पर पेंसिल चलाने को कहें। यह भी लिखने की कला विकसित करने में कारगर साबित होगा।

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • 4
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Jul 29, 2018

kuch Salah de please

  • रिपोर्ट

| Jul 29, 2018

mera beta 4sal ka hai school jata hai ..but o likhane ke liye bahot katrata hai ...bahot mushkil se uska home work karana padta hai

  • रिपोर्ट

| Jul 26, 2018

ya right meri beti 2 yer ki hai nd vo plygroup jati hai... usko dot nd pen pkdna aa gya usi trh se

  • रिपोर्ट

| Jul 10, 2018

thnq

  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}