• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
खाना और पोषण गर्भावस्था

4 मंथ प्रेगनेंसी डाइट चार्ट/प्रेगनेंसी आहार प्लान - क्या खाएं और क्या न खाएं ?

Deepak Pratihast
गर्भावस्था

Deepak Pratihast के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Feb 18, 2019

4 मंथ प्रेगनेंसी डाइट चार्टप्रेगनेंसी आहार प्लान क्या खाएं और क्या न खाएं

प्रेग्नेंसी (गर्भावस्था) का चौथा महीना काफी अहम होता है। इस महीने में एक तरफ जहां भ्रूण अंगों के रूप में आकार ले चुका होता है और बच्चे का विकास तेजी से होता है, तो वहीं दूसरी तरफ इसमें गर्भवती को कई तरह की परेशानी भी होने लगती है। ऐसे में इस दौरान गर्भवती का ध्यान रखना काफी जरूरी हैं। इस ब्लॉग में हम आपको बताएंगे कि आखिर चौथे महीने में प्रेग्नेंट महिलाओं का आहार क्या होना चाहिए और किस आहार से उन्हें परहेज करना चाहिए

प्रेग्नेंसी के चौथे महीने में क्या होना चाहिए आपका डाइट चार्ट?4th Month Pregnancy Diet & Food In Hindi 

चौथे महीने में आकर गर्भवती को पेट में बच्चे के होने का अहसास होने लगता है। अंदर बच्चे की हलचल भी शुरू हो जाती है। पैरों में दर्द बढ़ने लगता है। सांस लेने में भी तकलीफ होती है। आपका वजन भी बढ़ने लगेगा। नाक से खून आने लगता है। आपका मिजाज भी बदलने लगेगा। इसके अलावा पेट भी बढ़ने लगता है।

प्रेग्नेंसी के चौथे महीने में क्या खाएं

  1. फल खूब खाएं – यूं तो फलों का सेवन गर्भावस्था के किसी भी महीने में काफी उपयोगी और महत्वपूर्ण है, लेकिन चौथे महीने में इसका खास महत्व है। दरअसल फलों में विटामिन और खनिज भरपूर मात्रा में मौजूद होते हैं। इसके अलावा इसमें पानी व फाइबर की मात्रा भी काफी होती है। इस अवधि में गर्भवती को इन सब चीजों की काफी जरूरत होती है। ऐसे में चौथे महीने में फलों का अधिक से अधिक सेवन करना चाहिए।

  2. दूध व दूध से बने उत्पाद – चौथे महीने में मां और बच्चे दोनों के ही शरीर को अधिक कैल्शियम की जरूरत होती है। इसी को ध्यान में रखते हुए डॉक्टर गर्भवती महिलाओं को विटामिन डी और कैल्शियम की गोली खाने को देते हैं। पर जरूरी नहीं कि आप भी दवाई पर ही निर्भर हों। अगर आप दूध व दूध से बने उत्पादों का सेवन ठीक से करें तो ये आपके लिए काफी उपयोगी हो सकते हैं। अगर आप एक दिन में 1 लीटर दूध का सेवन करें तो आपको व पेट में पल रहे बच्चे को पर्याप्त कैल्शियम मिल जाएगा और उसकी हड्डियां मजबूत होंगी । यही नहीं अगर आप दिन में 2 गिलास दूध भी पी लें तो ये काफी कारगर होगा। इसके अलावा रोजाना 500 ग्राम दही या 200 ग्राम पनीर का सेवन भी आपको काफी लाभ पहुंचाएगा।

  3. फाइबर युक्त आहार लें – आप अगर प्रेग्नेंसी के चौथे महीने में हैं, तो आपको उच्च मात्रा में फाइबर का सेवन करना चाहिए। साबुत अनाज, ओट्स, हरी पत्तेदार सब्जियां व जई आदि फाइबर युक्त आहार हैं। अतः इनका सेवन आपको पर्याप्त मात्रा में करना चाहिए।

  4. आयरन युक्त आहार -  जैसा कि हमने ऊपर बताया है कि चौथे महीने में बच्चे का विकास होने लगता है। बच्चे के विकास के लिए आयरन की अधिक आवश्यकता होती है। इसके अलावा शरीर में 2-5 लीटर अधिक खून बनाने की भी जरूरत होती है। ये दोनों चीजें आपको आयरन युक्त आहार से मिल सकती हैं। ऐसे में आयरन युक्त आहार का अधिक से अधिक सेवन करें। आपको दाल, पालक व सेब में पर्याप्त मात्रा में आयरन मिलेगा।

  5. मीट – अगर आप मांसाहारी हैं और आपको मतली भी नहीं आती है तो आप इस अवस्था में मीट का सेवन कर सकती हैं। हालांकि इस बात का ध्यान रखें कि मीट अच्छे से धोया हुआ हो व पका हुआ हो।

  6. फैटी एसिड – पर्याप्त मात्रा में फैटी एसिड के सेवन से समय पूर्व डिलिवरी का खतरा कम होता है। इसके अलावा इससे बच्चे का दिमागी विकास भी होता है। ऐसे में जरूरी है कि गर्भावस्था के चौथे महीने में आप अपने आहार में ओमेगा-3, 6, 9 फैटी एसिड की पर्याप्त मात्रा को शामिल करें। समुद्री मछली के अलावा अखरोट, सोया खाद पदार्थ, कद्दू के बीज आदि में फैटी एसिड काफी मात्रा में होता है।

  7. हेल्दी नाश्ता जरूरी – इस अवधि में आपको नियमित रूप से ताजा और हेल्दी नाश्ता करना चाहिए। नाश्ते में फल और दही जैसी चीजें लें। नाश्ते में दूध के अलावा पनीर का एक छोटा पीस व एक सैंडविज लें। सफेद ब्रेड की जगह ब्राउन ब्रेड का सेवन भी लाभकारी होगा।

 

प्रेग्नेंसी के चौथे महीने में क्या न खाएंFoods To Avoid During Fourth Month Of Pregnancy In Hindi

  1. बाहर का खाना – गर्भावस्था के किसी भी महीने में बाहर का खाना खाने से परहेज करना चाहिए, लेकिन बात अगर चौथे महीने की है तो इस बात पर खास ध्यान देने की जरूरत है। बाहर का खाना सफाई से न बना हो तो इससे विषाक्ता की दिक्कत हो सकती है।

  2. उच्च मरकरी की मछली – यूं तो गर्भावस्था के चौथे महीने में मीट व मछली खाने से फायदा होता है, लेकिन इस दौरान इस बात का ध्यान रखें कि मछली उच्च मरकरी की न हो। इससे पेट में पल रहे बच्चे को नुकसान हो सकता है।

  3. मैदा – इस अवस्था में कब्ज व अपच की समस्या अधिक रहती है। ऐसे में चौथे महीने में आपको मैदे से बनी चीजें खाने से परहेज करना चाहिए। मैदा पाचन को खराब करता है। ऐसे में कब्ज की समस्या और बढ़ सकती है।

  4. सॉफ्ट चीज – आप प्रेग्नेंट हैं और चौथे महीने में हैं, तो आपको सॉफ्ट चीजें खाने से भी परहेज करना चाहिए। दरअसल यह गैर पाश्चरीकृत दूध से बनता है। इसमें ऐसे बैक्टीरिया होते हैं, जो पेट में पलने वाले शिशु को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

  5. मुलेठी – दरअसल प्रेग्नेंसी के चौथे महीने में मुलेठी का सेवन करने से बच्चे का दिमागी विकास प्रभावित होता है। यह बच्चे को काफी नुकसान पहुंचा सकता है, ऐसे में इसे आहार में शामिल नहीं करना चाहिए।

  6. सूखे मेवे से भी रहें दूर – चौथे महीने में गर्भवती महिला को सूखे मेवे का सेवन करने से भी बचना चाहिए। इससे भी बच्चे को नुकसान पहुंच सकता है।

आहार के अलावा गर्भावस्था के चौथे महीने में आपको आरामदायक कपड़े पहनने चाहिएं। इसके अलावा हाई हील्स से बचकर रहना चाहिए। ज्यादा से ज्यादा आराम करें।

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • 3
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Jul 08, 2019

Kaju bdam kuch nhi kha skte kya

  • रिपोर्ट

| Jul 08, 2019

Kaju bdam nhi kha skte kya

  • रिपोर्ट

| Mar 14, 2019

apne kha sukhe meve se dur rhe or e bji kha akhrot khaiye to akhrot bhi sukhe meve me ata he to isko khay ya n khay please tel me

  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें
टॉप खाना और पोषण ब्लॉग

Always looking for healthy meal ideas for your child?

Get meal plans
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}