• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
गर्भावस्था

गर्भवती महिला के आहार में क्या और कितनी मात्रा में होना चाहिए?

Dr Paritosh Trivedi
गर्भावस्था

Dr Paritosh Trivedi के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया May 31, 2020

गर्भवती महिला के आहार में क्या और कितनी मात्रा में होना चाहिए
विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

गर्भवती महिला का आहार कैसा होना चाहिए ? हर महिला कि ये इच्छा होती है कि वह एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दे। इस इच्छा को पूर्ण करने के लिए गर्भावस्था मे पौष्टिक आहार का सेवन पर्याप्त मात्रा मे करना बेहद जरुरी है। गर्भस्थ शिशु का विकास माता के आहार पर निर्भर होता है। गर्भवती महिला को ऐसा आहार करना चाहिए जो उसके गर्भस्थ शिशु के पोषण कि आवश्यकताओं को पूरा कर सके। सामान्य महिला को प्रतिदिन 2100 calories का आहार करना चाहिए। Food and Nutrition Board के अनुसार गर्भवती महिला को आहार के माधयम से 300 calories अतिरिक्त मिलनी ही चाहिए। यानि सामान्य महिला कि अपेक्षा गर्भवती महिला को 2400 calories प्राप्त हो इतना आहार लेना चाहिए और विविध Vitamins, Minerals अधिक मात्रा में प्राप्त करना चाहिए।

गर्भावस्था में महिला को आहार में कौन से चीजें कितनी मात्रा में लेनी चाहिए? / Pregnancy Diet Plan & Nutrients Quantity in Hindi


#1. प्रोटीन (Proteins) 

  • गर्भवती महिला को आहार मे प्रतिदिन 60 से 70 ग्राम Proteins मिलना चाहिए। 
  • गर्भवती महिला के गर्भाशय, स्तनों तथा गर्भ के विकास ओर वृद्धि के लिये Proteins एक महत्वपूर्ण तत्व है।
  • अंतिम 6 महीनो के दौरान करीब 1 किलोग्राम Proteins की आवश्यकता होती है। 
  • Protein युक्त आहार मे दूध और दुध से बने व्यंजन, मूंगफली, पनीर, चिज़, काजू, बदाम, दलहन, मांस, मछली, अंडे आदि का समावेश होता है।     


#2. कैल्शियम (Calcium)

  • गर्भवती महिला और गर्भस्थ शिशु की स्वस्थ और मजबूत हड्डियों के लिये इस तत्व की आवश्यकता रहती है। 
  • Calcium युक्त आहार में दूध और दूध से बने व्यंजन, दलहन, मक्खन, चीज, मेथी, बीट, अंजीर, अंगूर, तरबूज, तिल, उड़द, बाजऱा, मांस आदि का समावेश होता है। 

#3. फोलिक एसिड (Folic Acid)

  • पहली तिमाही वाली महिलाओं को प्रतिदिन 4 mg Folic Acid लेंने की आवश्यकता होती है। दूसरी और तीसरी तिमाही मे 6 mg Folic Acid लेंने की आवश्यकता होती है। 
  • पर्याप्त मात्रा में Folic Acid लेने से जन्मदोष और गर्भपात होने का खतरा कम हो जाता है। इस तत्व के सेवन से उलटी पर रोक लग जाती है। 
  • आपको Folic Acid का सेवन तब से कर लेना चाहिए जब से आपने माँ बनने का मन बना लिया हो। 
  • Folic Acid युक्त आहार मे दाल, राजमा, पालक, मटर, मक्का, हरी सरसो, भिंड़ी, सोयाबीन, काबुली चना, स्ट्रॉबेरी, केला, अननस, संतरा, दलीया, साबुत अनाज का आटा, आटे कि ब्रेड आदि का समावेश होता है।  

#4. पानी (Water)

  • गर्भवती महिला हो या कोई भी व्यक्ति, पानी हमारे शरीर के लिये बहुत महत्वपुर्ण है। गर्भवती महिलाओ को अपने शरीर कि बढ़ती हुईं आवश्यकताओं को पुरा करने के लिये प्रतिदिल कम से कम 3 लीटर (10 से 12 ग्लास) पानी जरुर पीना चाहिए। गर्मी के मौसम में 2 ग्लास अतिरिक्त पानी पीना चाहिए।  
  • हमेशा ध्यान रखे कि आप साफ़ और सुरक्षित पानी पी रहे है। बाहर जाते समय अपना साफ़ पानी साथ रखे या अच्छा बोतलबंद पानी का उपयोग करे।  

#5.  विटामिन (Vitamins)

  • आहार ऐसा होना चाहिए कि जो अधिकधिक मात्रा मे calories तथा उचित मात्रा में Proteins के साथ Vitamins कि जरुरत कि पूर्ति कर सके। 
  • हरी सब्जियां, दलहन, दूध आदि से Vitamin उपलब्ध हो जाते है। 

#6. आयोडीन (Iodine)

  • गर्भवती महिलाओ  के लिये प्रतिदिन 200-220 माइक्रोग्राम Iodine कि आवश्यकता होती है। 
  • Iodine आपके शिशु के दिमाग के विकास  के लिये आवश्यक है। इस तत्व की कमी से बच्चे मे मानसिक रोग, वजन बढ़ना और महिलाओ मे गर्भपात जेसी अन्य खामिया उत्पन्न होती है।   
  • गर्भवती महिलाओ को अपने डॉक्टर कि सलाह अनुसार Thyroid Profile जॉंच कराना चाहिए। 
  • Iodine के प्राकृतिक स्त्रोत्र है अनाज, दालें, ढूध, अंड़े, मांस। Iodine युक्त नमक अपने आहार मे Iodine शामिल करने का सबसे आसान और सरल उपाय है।  

 #7. जिंक​ (Zinc)

  • गर्भवती महिलाओ  के लिये प्रतिदिन 15 से 20 मिलीग्राम Zinc कि आवश्यकता होती है। 
  • इस तत्व कि कमी से भूख नहि लगतीं, शारीरिक विकास अवरुद्ध हो जात्ता है, त्वचा रोग होते है। 
  • पर्याप्त मात्रा में शरीर को Zinc कि पूर्ति करने के लिए हरी सब्जिया और Multi-Vitamin supplements ले सकते है। 

गर्भवती महिला के लिए आहार संबंधी आवश्यक टिप्स

गर्भवती महिलाओ को आहार संबंधी निम्नलिखित बातों का ख्याल रखना चाहिए :

  • गर्भवती महिला को हर 4 घंटे में कुछ खाने की कोशिश करनी चाहिए। हो सकता है आपको भूख न लगी हो, परन्तु हो सकता है कि आपका गर्भस्थ शिशु भूखा हो।
     
  • वजन बढ़ने कि चिंता करने के बजाय अच्छी तरह से खाने कि ओर ध्यान देना चाहिए। 
     
  • कच्चा दूध न पिए। 
     
  • मदिरापान / धूम्रपान न करे। 
     
  • Caffeine की मात्रा कम करे। प्रतिदिन 200 mg से अधिक caffeine लेने पर गर्भपात और कम वजन वाले शिशु के जन्म लेने का खतरा बढ़ जाता है। 
     
  • गर्भवती महिलाओ को गर्म मसालेदार चींजे नहीं खाना चाहिए। 
     
  • Anaemia से बचने के लिए अखण्ड अनाज से बने पदार्थ, अंकुरित दलहन, हरे पत्तेवाली साग भाज़ी, ग़ुड़, तिल आदि लोहतत्व से भरपूर खाद्यपदार्थों का सेवन करना चाहिए। 
     
  • सम्पूर्ण गर्भावस्था के दौरान गर्भवती महिला का वजन 10 से 12 किलो बढ़ना चाहिए।  
     
  • गर्भवती महिला को उपवास नहीं करना चाहिए। 
     
  • गर्भवती महिला को मीठा खाने की इच्छा हो तो उन्हें अंजीर खाना चाहिए। इसमें प्रचुर मात्रा में Calcium है और इससे कब्ज भी दूर होता हैं। 
     
  • Vegetable सूप और जूस लेना चाहिए। भोजन के दौरान इनका सेवन करे। बाजार में मिलने वाले रेडीमेड सूप व् जूस का उपयोग न करे। 
     
  • गर्भवती महिला को fast foods, ज्यादा तला हुआ खाना, ज्यादा तिखा और मसालेदार खाने से परहेज करना चाहिए। 
     
  • अपने डॉक्टर की सलाह  के अनुसार Vitamin और Iron कि गोलियां नियमित समय पर लेना चाहिए।   
     

अगर यह जानकारी आपको उपयोगी लगती है तो कृपया इसे share अवश्य करे l यह लेख डॉ पारितोष त्रिवेदी जी ने लिखा हैं l प्रेगनेंसी और अन्य स्वास्थ्य सबंधी जानकारी सरल हिंदी भाषा में पढने के लिए आप इनकी website www.nirogikaya.com पर visit कर सकते हैं l 

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

इस ब्लॉग को पेरेंट्यून विशेषज्ञ पैनल के डॉक्टरों और विशेषज्ञों द्वारा जांचा और सत्यापित किया गया है। हमारे पैनल में निओनेटोलाजिस्ट, गायनोकोलॉजिस्ट, पीडियाट्रिशियन, न्यूट्रिशनिस्ट, चाइल्ड काउंसलर, एजुकेशन एंड लर्निंग एक्सपर्ट, फिजियोथेरेपिस्ट, लर्निंग डिसेबिलिटी एक्सपर्ट और डेवलपमेंटल पीड शामिल हैं।

  • 11
कमैंट्स ()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Oct 05, 2018

Myre byte 1 year 3 month ki ho gye h ab tk teeth nhi aay h kuch problem to nhi hoge

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Oct 09, 2018

Poonam Parveen नमस्ते। आजकल teeth लेट आने की समस्या बहुत हो रही है। genrelly सात आठ महीने में दांत निकल जाते है लेकिन कई बच्चों में एक साल बाद भी दांत निकलते है।आप बच्चे के मसूड़े चेक करें और देखें कि मसूड़े हल्के white दिख रहे है क्या? उंगली मसूड़ों पे फेर कर देखें।बच्चे को आप खीरा, एप्पल की छोटी स्लाइस दें अगर बच्चा मसूड़ों से उसके टुकड़े कर देता है तो समझिए दांत आने की प्रोसेस शुरू हो चुकी है।

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Nov 30, 2018

ayran Aur calcium ki telbet lene ke bad vomting Aane start Ho jati h m kya karu tablet band kar du

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Jan 22, 2019

good

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Jul 10, 2019

Thanks for awareness of this knowledge

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Jul 17, 2019

thanks

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Jul 31, 2019

u88818oooplppppyyyğhtfggt6

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Sep 11, 2019

hook iio9p

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Sep 11, 2019

o

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Apr 08, 2020

Thanks for the your COMPLIMENT..

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Jul 01, 2020

  • Reply
  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें

टॉप गर्भावस्था ब्लॉग

Sadhna Jaiswal

आज के दिन के फीचर्ड कंटेंट

गर्भावस्था

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}