• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
खाना और पोषण

क्या हैं बच्चों की इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए जरुरी आहार ?

Prasoon Pankaj
3 से 7 वर्ष

Prasoon Pankaj के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Mar 23, 2021

क्या हैं बच्चों की इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए जरुरी आहार
विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

बच्चों का स्वास्थ्य उनके इम्यून सिस्टम (रोग-प्रतिरोधक क्षमता) पर निर्भर होता है। खासकर 3 से 7 साल के बच्चों का। इम्यून सिस्टम कमजोर होने की वजह से बच्चे अक्सर बैक्टीरिया, वायरस और परजीवी जैसे जीवाणुओं की चपेट में आते हैं और कई बीमारियों (जैसे – सर्दी, जुखाम, बुखार व पेट दर्द) के शिकार हो जाते हैं। जिन बच्चों का इम्यून सिस्टम मजबूत होता है, वह काफी स्वस्थ और फिट रहते हैं। ऐसे में पैरेंट्स के लिए बच्चे का इम्यून सिस्टम मजबूत रखना काफी जरूरी होता है। इसके लिए उन्हें कुछ आहार संबंधी सावधानी बरतनी होती है। आइए जानते हैं कुछ ऐसे ही आहारों के बारे में जिनकी मदद से आप अपने लाडले का इम्यून सिस्टम बढ़ा सकते हैं और उन्हें स्वस्थ रख सकते हैं।

बच्चों का इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए जरूरी आहार ? / Foods to Increase Child's Immunity in Hindi

डॉक्टरों के अनुसार अधिकतर बच्चे रोग-प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने की वजह से ही बीमार पड़ते हैं, लेकिन उनके आहार पर अगर ध्यान दिया जाए और कुछ पौष्टिक भोजन का सेवन कराया जाए तो इम्यून सिस्टम बढ़ता है। आइए जानते हैं आखिर आपको किस तरह का आहार बच्चे को देना चाहिए।

  1. फल और सब्जियां – बच्चे का इम्यून सिस्टम अगर मजबूत करना चाहते हैं, तो उसे फल और सब्जी जरूर खिलाएं। उसे सेब, गाजर, शकरकंद, सेम की फली, कीवी, खरबूजा, नारंगी, बरी बीन्स व स्ट्रॉबेरी देना फायदेमंद होगा। आप बच्चे को स्मूथी, जूस व पेस्ट बनाकर दे सकते हैं। इसके अलावा बच्चों खट्टे फल जैसे नारंगी, संतरा, मौसमी, नींबू, अंगूर, अमरूद व आंवला आदि देने से भी उसका इम्यून सिस्टम मजबूत होगा। [जरूर पढ़ना चाहिए - क्या हैं आहार बच्चो में हीमोग्लोबिन की कमी को दूर करने के लिए?]

  2. मां का दूध व डेयरी प्रोडक्ट - मां का दूध बच्चे में इम्यून सिस्टम बढ़ाने के लिए सबसे कारगर उपाय है। मां के दूध में केलेस्ट्रल नामक तत्व होता है, जो बच्चे के इम्यून सिस्टम को मजबूत करने के साथ ही उसे जीवन भर कई गंभीर बीमारियों से बचाता है। मां के दूध में सभी प्रकार के प्रोटीन, चीनी और वसा मौजूद होते हैं, जो बच्चे को स्वस्थ रखते हैं। वहीं मां के दूध में एंटीबॉडीज और सफेद रक्त कोशिकाएं भी होती हैं, जो बच्चे की रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती हैं। बच्चा अगर तीन साल से ऊपर का हो जाता है, तो अधिकतर केस में मां का दूध पिलाना संभव नहीं होता, ऐसी स्थिति में आपके लिए डेयरी प्रोडक्ट भी बेहतरीन विकल्प हो सकते हैं। आप बच्चे को दूध, मिल्क शेक, स्मूदी, योगर्ट दे सकते हैं। इससे भी इम्यून सिस्टम मजबूत होता है। एक गिलास दूध उसे नियमित रूप से दें। [जरूर पढ़ना चाहिए बच्चो को शुरू से आदत डाले दूध पिने की]

  3. दही – दही खाने से भी बच्चे का इम्यून सिस्टम मजबूत होता है। दही में प्रोबायोटिक्स मौजूद होता है। प्रोबायोटिक्स में वह सभी अच्छे बैक्टीरिया मौजूद होते हैं, जिनकी शरीर को जरूरत होती है और ये खराब बैक्टीरिया को शरीर में आने नहीं देते। हालांकि दही रात में देने से बचें।

  4. प्रोटीन युक्त आहार – अगर आप चाहते हैं कि बच्चे की इम्यूनिटी मजबूत हो, तो आपको उसे प्रोटीन युक्त आहार का सेवन अधिक से अधिक कराना चाहिए। प्रोटीन से एंटीबॉडीज बनते हैं, जो शरीर की इम्यूनिटी सिस्टम के लिए जरूरी होता है। दालें, अंडे, मांस, सोया, मछली व मीट आदि में प्रोटीन प्रचूर मात्रा में होती है।

  5. मशरूम -  मशरूम में विटामिन-डी और एंटीऑक्सीडेंट प्रचूर मात्रा में मौजूद होता है। ये दोनों इम्यून सिस्टम को मजबूत करने में काफी उपयोगी होते हैं। ऐसे में जरूरी है कि आप बच्चे को मशरूम का सेवन कराएं। इसे अलग-अलग सब्जियों के साथ भी दे सकते हैं।

  6. ब्रोकली – अपने बच्चे के आहार में ब्रोकली को जरूर शामिल करें। ब्रोकली में विटामिन-ए, विटामिन-सी व ग्लूटाथियोन नामक एंटीऑक्सीडेंट तत्व पाए जाते हैं, जो इम्यून सिस्टम को मजबूत करता है। बच्चा इसे खाने में आनाकानी करे तो थोड़े से पनी के साथ स्टीम्ड ब्रोकली मिलाकर सलाद तैयार करके उसे खाने को दें। यही नहीं इसमें प्रोटीन व कैल्शियम की मात्रा भी काफी होती है।

  7. लहसुन – लहसुन का उपयोग अक्सर हर घर में अलग-अलग सब्जियों में होता है। शायद आप नहीं जानते होंगे कि लहसुन बच्चों के साथ-साथ बड़ों को भी स्वस्थ रखने में कितनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। एक्सपर्ट के अनुसार इसमें मौजूद एंटी बैक्टीरिया और एंटीऑक्सीडेंट गुण कई बैक्टीरिया व रोगाणुओं से लड़ने में मदद करतेहैं। इसके अलावा इसमें मौजूद एलिसिन नाम का तत्व भी हमें इन्फेक्शन और बैक्टीरिया से बचाता है और इम्यूनिटी बढ़ाता है। यहां जानिए :- बच्चों के लिए लहसुन के क्या हैं लाभ

  8. ड्राई फ्रूट्स (सूखे मेवे) – बच्चे का इम्यून सिस्टम अगर बढ़ाना चाहते हैं, तो उसे नियमित रूप से ड्राई फ्रूट्स भी खिलाएं। दरअसल इनमें विटामिन और खनिज (नियासिन, विटामिन-ई, राइबोफ्लेविन आदि) काफी मात्रा में मौजूद होते हैं, जो शरीर को स्वस्थ रखते हैं और रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाते हैं। ड्राई फ्रूट्स में सबसे उपयोगी बादाम होता है। यह शरीर में बी टाइप की कोशिकाओं को बढाता है। यह कोशिकाएं एंटीबॉडीज का निर्माण करती हैं और शरीर को नुकसान पहुंचाने वाले बैक्टीरिया को नष्ट करती है। ड्राई फ्रूट्स में अखरोट, बादाम, किशमिश, काजू, पिस्ता आदि आते हैं। ऐसे में इन सभी का सेवन बच्चे को कराएं।

  9. विटामिन-सी युक्त आहार -  विटामिन-सी को एस्कॉर्बिक एसिड के नाम से भी जाना जाता है। यह शरीर के ऊतकों के विकास और मरम्मत के लिए जरूरी होता है। इसके अलावा यह इम्यूनिटी भी बढ़ाता है। ऐसे में अपने बच्चे को इसका सेवन जरूर कराएं। जामुन, चेरी, आड़ू व अमरूद विटामिन-सी वाले आहार ही हैं।

  10. हल्दी – हल्दी में एंटी बैक्टीरिया, एंटी फंगल, प्रोटीन, विटामिन-सी, विटामिन-के, कैल्शियम, कॉपर, आयरन व जिंक जैसे तत्व मौजूद होते हैं, जो शरीर में रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में सहायक होते हैं। आप बच्चे को रात को सोने से पहले दूध में हल्दी देकर पिलाएं।

  11. साबुत अनाज – साबुत अनाज में विटामिन-ए, विटामिन-बी2, विटामिन-बी6, विटामिन-सी, जिंक, सेलेनियम और जरूरी फैटी एसिड पर्य़ाप्त मात्रा में मौजूद होते हैं। इससे भी इम्यून सिस्टम मजबूत होता है। ऐसे में बच्चों को ये जरूर दें।

  12. ओट्स – ओट्स खाने से कोलेस्ट्रोल की मात्रा घटती है। इसमें मौजूद बीटाग्लूकेन नाम के फाइबर पेट के अंदर की लाइनिंग को मजबूत करते हैं, जिससे इम्यून सिस्टम भी मजबूत होता है।

  13. पालक - पालक में फोलेट नामक तत्व पाया जाता है, जो शरीर में नई कोशिकाओं को बनाने के साथ-साथ उनमें मौजूद डीएनए को भी सुरक्षित करते हैं। पालक में मौजूद फाइबर आयरन एंटीऑक्सीडेंट तत्व और विटामिन सी शरीर को हर तरह से स्वस्थ रखते हैं। यह इम्यूनिटी को कमजोर नहीं होने देते।

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

इस ब्लॉग को पेरेंट्यून विशेषज्ञ पैनल के डॉक्टरों और विशेषज्ञों द्वारा जांचा और सत्यापित किया गया है। हमारे पैनल में निओनेटोलाजिस्ट, गायनोकोलॉजिस्ट, पीडियाट्रिशियन, न्यूट्रिशनिस्ट, चाइल्ड काउंसलर, एजुकेशन एंड लर्निंग एक्सपर्ट, फिजियोथेरेपिस्ट, लर्निंग डिसेबिलिटी एक्सपर्ट और डेवलपमेंटल पीड शामिल हैं।

  • 15
कमैंट्स ()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Mar 15, 2019

nice information

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Mar 28, 2019

Very nice

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Apr 01, 2019

Useful for every parent.. Thanks

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Apr 09, 2019

Nice information

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Apr 16, 2019

Nice

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Apr 22, 2019

thnx ....nice

  • Reply
  • रिपोर्ट

| May 09, 2019

Nice thnx

  • Reply
  • रिपोर्ट

| May 25, 2019

Mera beta 5 years ka hai but ,, lagta hai 3 years ka na toh uski hight badh rhi hai or na hi uska wait please tell me a solutions

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Jun 12, 2019

Nice information

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Sep 18, 2019

Nice

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Sep 28, 2019

Mera 7 year ka betah ...kafi kamjor

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Oct 09, 2019

Meri beti bister me night me toilet Karti h ISKA koi solution de. vo 3. 5 year's ki h.

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Dec 11, 2019

Meta beta 5 Sal ka he uski height to get he please physically or mentally growth or liye mujhe proper diet plan bataye

  • Reply | 1 Reply
  • रिपोर्ट

| Apr 15, 2020

  • Reply
  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}