स्वास्थ्य गर्भावस्था

जानिए जीका वायरस के लक्षण और बचाव के 7 तरीके गर्भवती महिलाएं के लिए

Prasoon Pankaj
गर्भावस्था

Prasoon Pankaj के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Oct 22, 2018

जानिए जीका वायरस के लक्षण और बचाव के 7 तरीके गर्भवती महिलाएं के लिए

कई देशों में दहशत फैलाने के बाद अब जीका वायरस (ZIKA VIRUS) ने भारत में भी दस्तक दे दी है। राजस्थान में जीका वायरस से संक्रमित लोगों की तादाद लगातार बढ़ती ही जा रही है। ब्लॉग लिखे जाने तक राजस्थान में जीका वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 72 तक जा पहुंची है। जीका वायरस के संक्रमण फैलने का खतरा सबसे अधिक गर्भवती महिलाओं और बच्चों को है। जीका वायरस के दुष्प्रभाव के चलते गर्भवती महिलाओं का बच्चा अविकसित दिमाग के साथ पैदा होता है।  इसे भी पढ़ें - How to protect against Zika when pregnant?

तो आइये जानते हैं कि जीका वायरस (jica virus) का इतिहास क्या है और इससे संक्रमित होने के बाद क्या लक्षण नजर आते हैं एवं इससे बचाव के लिए आप किन उपायों को आजमा सकते हैं।

जीका वायरस का इतिहास/ Zika Virus History in Hindi

जीका (jica) मच्छर का वायरस इंसानों में एडीज मच्छर के काटने से फैलता है। डेंगू के मच्छर की तरह ये भी दिन में एक्टिव रहता है। साल 1947 में सबसे पहली बार युगांडा के जंगलों में ये संक्रमण बंदरों के समुदाय में फैला था। इसके बाद 1951 में इंसानों में पहली बार जीका वायरस (ZIKA VIRUS) का संक्रमण पाया गया। साल 2007 तक जीका का संक्रमण केवल अफ्रीका और एशिया के कुछ हिस्सों में पाया जाता था। इसके बाद साल 2016 में ब्राजील में इसका कहर इस कदर फैला कि विश्व स्वास्थ्य संगठन यानि WHO ने सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए आपातकाल तक घोषित कर दिया और अब चिंता की बात ये है कि अपने देश में राजस्थान में जीका वायरस के दर्जनों मामले सामने आ चुके हैं।

 

जीका वायरस से संक्रमित होने के लक्षण/ Zika Virus Signs & Symptoms in Hindi

आइये जानते हैं कि क्या हैं जीका वायरस से संक्रमित (Zika Virus Infecton Signs) होने के बाद क्या लक्षण नजर आते हैं ताकि समय रहते इनसे बचने के उपाय तलाश सकें। इसे पढ़ें -

  1. जीका मच्छर के काटने से फैलता है। ये मच्छर सबसे अधिक सुबह और शाम के समय सक्रिय होता है। ध्यान रखें कि ये मच्छर रुके हुए पानी में पनपता है।
     
  2. जीका वायरस मच्छर से इंसान में और मां से गर्भस्थ शिशु में फैल सकता है।
     
  3. इस वायरस से संक्रमित होने के लक्षण तुरंत नजर नहीं आ सकते हैं। इसके लक्षण नजर आने में 3 से 14 दिन तक का भी वक्त लग सकता है।
     
  4. इससे पीड़ित लोगों को हल्का बुखार, कंजक्टिवाइटिस, सिरदर्द की शिकायत हो सकती है
     
  5. जोड़ों में दर्द के अलावा शरीर में चकत्ते के निशान भी नजर आ सकते हैं
     
  6. इसका प्रभाव 2 दिन से लेकर 1 हफ्ते तक रह सकता है
     
  7. अगर ये वायरस वीर्य (sperm) में पहुंच जाता है तो ये करीब 2 हफ्ते तक जीवित रहता है इसलिए जीका प्रभावित इलाकों में रहने वाले लोगों को सुरक्षित सेक्स संबंध बनाने की सलाह दी जाती है।
     
  8. जीका प्रभावित इलाकों में रक्तदान करने से भी परहेज रखने की सलाह दी जाती है
     
  9. जीका वायरस दरअसल नर्वस सिस्टम की एक बीमारी है और इसको गुलियन बार सिंड्रोम के नाम से भी जाना जाता है। इसकी वजह से कई परिस्थितियों में अस्थाई तौर पर लकवा भी मार जाता है। 
     
  10. इस बीमारी में सबसे बड़ा खतरा गर्भवती महिलाओं को होता है। गर्भ में पल रहे बच्चे के दिमागी विकास को बाधा पहुंचा सकता है

 

इसे भी पढ़ें - What is Zika Virus & precautions tips?

​​

जीका वायरस से बचने के उपाय/ Tips to Avoid Zika Virus in Hindi

सबसे जरूरी बात की सावधानी ही इससे बचने का उपाय है। जीका वायरस (jica virus) को फैलने से बचने के लिए आप उन्हीं उपायों को दोहराएं जो डेंगू के मच्छर से बचने के लिए हम लोग करते हैं। इन Zika Virus Treament advice/उपायों को भी पढ़ें -

  1. मच्छरदानी का प्रयोग करें, मच्छर वाले इलाके में दिन में भी पूरे कपड़े पहने रहें।
     
  2. कूलर या घर में अन्य किसी स्थान पर अगर बहुत दिनों से जमा हुआ पानी है तो उसकी तत्काल सफाई करें ताकि ये मच्छर पनप ही ना पाएं 
     
  3. मच्छरों को मारने वाली चीजों का इस्तेमाल करें
     
  4. बिना जांच के रक्त ना चढ़ाएं
     
  5. WHO के मुताबिक लक्षण दिखने पर ब्लड, यूरिन और सीमैन टेस्ट से वायरस की पुष्टी की जाती है। फिलहाल इस वायरस के संक्रमण का कोई इलाज नहीं है।
     
  6. अधिक से अधिक तरल पदार्थों का सेवन करें
     
  7. लक्षण के नजर आने पर तत्काल नजदीकी अस्पताल या डॉक्टर से संपर्क करें

 

 

फिलहाल राजस्थान समेत कई और राज्यों में अलर्ट जारी कर दिया गया है। इसके अलावा इस वायरस से निपटने के लिए WHO से भी मदद  मांगी गई है।

 

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • कमेंट
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}