शिशु की देख - रेख

ब्रेस्ट फीडिंग कराने वाली महिलाओं के लिए वरदान है हल्दी

Parentune Support
0 से 1 वर्ष

Parentune Support के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Jul 10, 2018

ब्रेस्ट फीडिंग कराने वाली महिलाओं के लिए वरदान है हल्दी

बच्चे के लिए मां का दूध सबसे बेहतर होता है। पर स्तनपान कराने वाली मांओं को खान-पान का काफी ध्यान रखना पड़ता है। दरअसल ब्रेस्ट फीडिंग कराने वाली महिलाएं जो भी खाद्य पदार्थ का सेवन करती हैं, उसका सीधा असर बच्चे के स्वास्थ्य पर भी पड़ता है। ऐसे में ऐसी महिलाओं को अपने खानपान पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए। अगर महिलाएं पोषक तत्वों का सेवन करती हैं, तो दूध के माध्यम से बच्चे को भी पोषण मिलता है। इसी कड़ी में पोषण व अन्य स्वास्थ्य लाभों के लिए स्तनपान कराने वाली महिलाएं हल्दी का सेवन करती हैं। यहां हम आपको बताएंगे कि आखिरकार कैसे ब्रेस्ट फीडिंग कराने वाली महिलाओं के लिए हल्दी वरदान है।
 

ये हैं फायदे

  1. नहीं होती लिवर की दिक्कत – हल्दी के सेवन से लिवर में होने वाली दिक्कतें दूर रहती हैं। हल्दी एंजाइम्स के उत्पादन को बढ़ाता है, जो आपके लिवर के खून को डिटॉक्सीफाइ करने में मदद करता है। इसके अलावा हल्दी स्तनपान कराने वाली महिलाओं के ब्लड सर्कुलेशन को भी ठीक बनाता है।
     
  2. नहीं होती पेट से संबंधित समस्या – हल्दी में अधिक मात्रा में एंटी-इंफ्लेमेट्री गुण होते हैं। यह गुण पेट में होने वाले बैक्टीरिया और कीटाणुओं को खत्म करते हैं। ऐसे में हल्दी के सेवन से पेट से जुड़ी समस्या (कब्ज, दस्त और एसिडिटी) नहीं होती। इसके अलावा यह महिलाओं के पेट के सूजने जैसी समस्या को भी दूर करता है।
     
  3. इम्यूनिटी सिस्टम में आता है सुधार – हल्दी में लाइपोपॉलीसेकराइड नामक एक पदार्थ होता है, जो शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली यानी इम्यूनिटी को बढ़ाता है। इसके अलावा हल्दी में एंटीफंगल, एंटी बैक्टीरियल और एंटीवायरल तत्व भी मौजूद होते हैं। ये महिलाओं व बच्चे को सर्दी-जुकाम व बुखार जैसी प्रॉब्लम से दूर रखते हैं।
     
  4. ओस्टयोऑर्थराइटिस से बचाती है – हल्दी में एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेट्री गुण होते हैं। ये दोनों गुण ओस्टियोऑर्थराइटिस की वजह से होने वाले दर्द और सूजन से आजादी दिलाता है। इसके अलावा हल्दी फ्री रेडिकल्स को भी न्यूट्रिलाइज करता है। इससे दर्द से राहत मिलती है। ऐसे में अगर ब्रेस्ट फीडिंग कराने वाली महिला हल्दी का सेवन करे तो वह इन सब दिक्कतों से दूर रह सकती है।
     
  5. कोलेस्ट्रॉल करता है कम – हल्दी दिल को भी स्वस्थ रखने में मदद करता है। दरअसल हल्दी के सेवन से महिलाएं कोलेस्ट्रॉल को कम कर सकती हैं। कोलेस्ट्रॉल का अधिक होना कई गंभीर बीमारियां पैदा कर सकता है। ऐसे में जरूरी है कि हल्दी के सेवन से इसे कंट्रोल में रखा जाए।

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • 14
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Aug 04, 2018

Meena Maurya ji same problem mere baby ki bhi hai.. 7 month ka ho gya .. bhut pareshan hu..

  • रिपोर्ट

| Aug 04, 2018

Hello Mera baby boy h uski bathroom krne wali susu properly open NH Ho ri h kya kare

  • रिपोर्ट

| Aug 04, 2018

mam meri beti 1 yr n 7 mnth ji h wo feedr s ya katori se doodh nhi piti h na kch zyada khati h. ab mjhe uska brst feedng chudana h nkya kru k wo kch khane lage m vht pareshan hu pkz help me.

  • रिपोर्ट

| Jul 30, 2018

meri beti 2 month ki hai... muh se doodh bhut nikalti hai.... kya kru?

  • रिपोर्ट

| Jul 09, 2018

mera baby sava saal ka hai uske hone k baad se meri kamar or hath pairo m bhut dard rhta h or bhut kmjoori bhi rhti h.... kya krna chaiye

  • रिपोर्ट

| Jul 07, 2018

Kaise use Kare haldi

  • रिपोर्ट

| Jul 07, 2018

Garam Rice me 1 table spoon ghee or half table spoon haldi agar fresh grind ki ho to jayeda effective hota hai.

  • रिपोर्ट

| Jul 02, 2018

haldi kaise leni hai plz reply

  • रिपोर्ट

| May 10, 2018

haldi kis tarah se aur kb leni h ..?

  • रिपोर्ट

| May 06, 2018

Kitni quantity me haldi leni hai or kese leni h

  • रिपोर्ट

| Apr 23, 2018

Hi mem mera beta 12 manth ka he use kya khilana chahiye...

  • रिपोर्ट

| Apr 08, 2018

Hi Kitni quantity me Haldi leni hai or kis kis Tarah se le skte hai haldi

  • रिपोर्ट

| Apr 03, 2018

hi mam 11oct ko mera beta hua uske bad main moti hoye ja rhi hun kya karun

  • रिपोर्ट

| Apr 03, 2018

hi mam 11oct ko mera beta hua uske bad main moti hoye ja rhi hun kya karun

  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}