• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
शिक्षण और प्रशिक्षण

बिजली के इन 5 खतरों से रहें सावधान

Sadhna Jaiswal
1 से 3 वर्ष

Sadhna Jaiswal के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया May 31, 2020

बिजली के इन 5 खतरों से रहें सावधान
विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

बेशक बिजली ने आज हमारी जिंदगी को बहुत आसान बना दिया है। इसकी वजह से हमें काफी आराम व सुकून मिलता है, लेकिन जरा सी लापरवाही बरतने पर यह काफी खतरनाक भी हो सकती है। खासकर यह बच्चों के लिए तो काफी खतरनाक है। दरअसल सावधानी न बरतने पर बिजली से शॉर्ट सर्किट के बाद आग लगने व करंट लगने का खतरा हमेशा रहता है। ऐसे में जरूरी है कि आप बिजली के खतरों को समझते हुए अपने बच्चे को इससे बचाकर रखें।
 

बिजली के इन खतरों से ऐसे बचें/ How To Be safe From Dangerous Electrical Hazzards In Hindi 

बिजली के खतरों से खुद की और अपने बच्चो की रक्षा करने के लिए आपको कुछ एहतियात बरतने की जरूरत है। 

  1. शॉर्ट सर्किट – अक्सर आप सुनते होंगे की शॉर्ट सर्किट की वजह से किसी इमारत में आग लगी है। ये तब होता है, जब बिजली के तार अच्छी क्वॉलिटी के नहीं होते हैं,  पुराने हो जाते हैं या फिर कहीं कट आ जाता है। उसमें स्पार्क से धीरे-धीरे आग लग जाती है। आग लगने की स्थिति में आप तो तेजी से निकल सकते हैं, लेकिन आपका बच्चा ऐसी स्थिति में मुसीबत में आ सकता है। आग से निकलने वाले धुएं से उसे काफी नुकसान भी हो सकता है। ऐसे में जरूरी है कि आप तारों की चेकिंग निरंतर करते रहें। तार पुराना होने या डैमेज होने की स्थिति में उसे तुरंत बदल दें।
     
  2. कटे तार से खतरा – घर में अगर कहीं कटा हुआ तार है, तो ये भी आपके बच्चे के लिए खतरनाक हो सकता है। दरअसल इससे दीवार पर करंट आ सकता है। बच्चे खेलते कूदते घर के किसी भी कोने में पहुंच जाते हैं। अगर उस हिस्से में करंट आ रहा होगा, तो वह उसकी चपेट में आ सकता है। इसके अलावा ये भी हो सकता है कि खेलते-खेलते कटे हुए तार पर उसका हाथ चला जाए। ऐसी स्थिति में भी उसे करंट लग सकता है। इस स्थिति से निपटने के लिए जरूरी है कि आप कटे हुए तार को बदल दें या फिर कट के पास टेप लगा दें।
     
  3. एक ही सॉकेट में न लगाएं ज्यादा प्लग – आप अगर एक ही सॉकेट में ज्यादा प्लग लगा रहे हैं, तो इस आदत को बदल डालिए। ये भी आपके बच्चे के लिए खतरनाक हो सकता है। अगर ऐसा है, तो इस बात का ध्यान रखें कि कभी भी बच्चे को प्लग लगाने के लिए न कहें। क्योंकि प्लग लगाने के दौरान हो सकता है कि वह दूसरे प्लग के लोहे के संपर्क में आ जाए। इससे उसे करंट लग सकता है। अतः कोशिश करें कि एक सॉकेट में ज्यादा प्लग न लगाएं। अगर लगाने की मजबूरी है, तो कभी भी बच्चे को प्लग लगाने को न कहें। इसके अलावा अगर बच्चा गो में है और हाथ गिले हैं, तो कभी भी बिजली के किसी भी उपकरण को चलाने से बचें। इससे आपको और आपके बच्चे को भी करंट लग सकता है। 
     
  4. पावर पॉइंट्स को कवर करके रखें – अगर आपके घर में छोटा बच्चा है, तो बेहतर होगा कि बच्चे की पहुंच तक के सभी पावर पाइंट्स को कवर करके रखें। इसके लिए आप प्लग प्रोटोक्टर्स का इस्तेमाल कर सकते हैं। दरअसल बच्चा खेलते-खेलते उन प्लग में अपनी उंगली डाल सकता है। इससे उसे करंट का खतरा रहेगा। इस स्थिति से बचने के लिए सारे पॉइंट्स को कवर करना जरूरी है।
     
  5. अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों से भी बच्चे को रखें दूर – सिर्फ बिजली के तार ही नहीं, बल्कि अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरण भी आपके बच्चे के लिए खतरनाक हो सकते हैं। दरअसल टीवी, फ्रिज, वॉशिंग मशीन व अन्य ऐसे उपकरण पावर लाइन से कनेक्ट होने के कारण काफी हद तक एक्टिव मोड में रहते हैं। उनमें कई बार करंट आ जाता है। अगर बच्चा इन सामानों को छूएगा, तो हो सकता है कि उसे करंट लग जाए। इसलिए जरूरी है कि इनका इस्तेमाल होते ही वायर पावर पॉइंट से निकाल कर रख दें। अगर ये उपकरण चल रहे हैं, तो इनके पास बच्चों को न जाने दें।

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

इस ब्लॉग को पेरेंट्यून विशेषज्ञ पैनल के डॉक्टरों और विशेषज्ञों द्वारा जांचा और सत्यापित किया गया है। हमारे पैनल में निओनेटोलाजिस्ट, गायनोकोलॉजिस्ट, पीडियाट्रिशियन, न्यूट्रिशनिस्ट, चाइल्ड काउंसलर, एजुकेशन एंड लर्निंग एक्सपर्ट, फिजियोथेरेपिस्ट, लर्निंग डिसेबिलिटी एक्सपर्ट और डेवलपमेंटल पीड शामिल हैं।

  • 2
कमैंट्स ()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Aug 30, 2018

Sahi hai

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Sep 11, 2018

good..

  • Reply
  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें
Deepak Pratihast
मॉमबेस्डर
आज के दिन के फीचर्ड कंटेंट

आज का पैरेंटून

पैरेंटिंग के गुदगुदाने वाले पल

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}