• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
स्वास्थ्य

बच्चे के अंदर अच्छी आदतें विकसित करने के लिए सुबह के समय में क्या करें ? ऐसे करें तैयारी...

Anubhav Srivastava
1 से 3 वर्ष

Anubhav Srivastava के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Dec 23, 2018

बच्चे के अंदर अच्छी आदतें विकसित करने के लिए सुबह के समय में क्या करें ऐसे करें तैयारी

प्रात:काल का समय हमारे जीवन में बड़ा महत्व रखता है। ऐसा इसलिए, क्योंकि वहीं से हमारा दिन प्रारंभ होता है। अगर दिन की शुरुआत अच्छी होती है तो दिन भर ताजगी बनी रहती है। हंसते हुए मुस्कुराते हुए दिन का स्वागत करें तो कोई कारण नहीं है कि हमारा दिन खराब हो। आपके बच्चे के लिए भी सुबह के समय का विशेष महत्व है, कामकाजी अभिभावकों के लिए सुबह बच्चे को समय देना और अधिक महत्वपूर्ण हो जाता है। इसलिए अपने बच्चे को सिखाना चाहिए कि प्रात:काल अपनी दिनचर्या किस प्रकार प्रारंभ करें। जैसे कि बच्चे को सुबह जल्दी उठने की आदत डालें, वह साफ-सफाई का ध्यान रखे और सुबह अच्छा नाश्ता करे। लेकिन, साथ ही यह भी जरूरी है कि सबसे पहले हम अपनी खुद की दिनचर्या को पटरी पर लाएँ। घर में छोटा बच्चा होने पर हमारी जिम्मेदारियां और भी बढ़ जाती हैं। हमें समय के महत्व को समझना चाहिए और इसी के अनुसार रचनात्मक ढंग से प्रयोग करना चाहिए, ताकि हम समय का अपने और अपने बच्चे के हित में समुचित उपयोग कर सकें।
 

बच्चे के अंदर अच्छी आदतें विकसित करने के लिए सुबह के समय किये जानें वाले काम / What to Do in the Morning to Develop Good Habits in child in Hindi 

सुबह का समय आपके बच्चे के लिए विशेष। ऐसे करें तैयारी...

  • हमारे माता- पिता, दादा- दादी और नाना- नानी बचपन में हमें कई अच्छी और हेल्दी आदतें सीखते आए हैं। सुबह जल्दी उठने से लेकर सुबह प्रार्थना करने, व्यायाम करने और साफ-सफाई से संबन्धित कई आदतें जो हमारे शारीरिक व मानसिक स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद होती हैं। बच्चों को अगर शुरू से ही साफ- सफाई की बेसिक आदतें सिखाई जाएँ तो उन्हें जल्दी संक्रमण भी नहीं होता और वे स्वस्थ भी रहते हैं। रोज सुबह नहाने से दिन भर ताजगी व स्फूर्ति बनी रहती है। दांतों की सफाई जितनी बड़ों के लिए जरूरी है, उतनी ही बच्चों के लिए भी। ऐसे में बच्चों को दो बार ब्रश करने और सही तरीके से ब्रश करने की आदत डलवाना जरूरी है। कोशिश करें कि सुबह उठने के बाद ये उसकी रुटीन का सबसे पहला काम हो जाए।
     
  • हमारे शरीर को बीमारियों से लड़ने के लिए विटामिन डी की बहुत अधिक आवश्यकता होती है। बच्चे को सुबह जल्दी उठने के लिए प्रेरित करें। प्रतिदिन सुबह जल्दी उठकर सूर्य की रोशनी या विटामिन डी से युक्त चीजों का सेवन करने से बच्चे की प्रतिरक्षा प्रणाली ही मजबूत नहीं होंगी बल्कि उसे बीमारियों से लड़ने की भी पूरी तरह ताकत मिलेगी। साथ ही, यदि संभव हो तो हल्के व्यायाम को भी बच्चे अपनी सुबह की दिनचर्या में शामिल करें तो यह भी एक स्वस्थ शरीर व स्वस्थ मन की तैयारी होगी।

इसे भी पढ़ें - क्या होना चाहिए है स्कूल जाने वाले बच्चों के लिए नाश्ता ?

  • बच्चों को इस बात के लिए प्रेरित करें कि वे अपनी दैनिक दिनचर्या जैसे स्कूल का कार्य, गृह कार्य, सोने के घंटे, जागने का समय, व्यायाम, भोजन करना आदि योजना बनाकर और समय के अनुसार करने की कोशिश करें । बच्चे को सिखाएँ कि हमें कठिन परिश्रम करने का आनंद लेना चाहिए और कभी भी अपनी अच्छी आदतों को बाद में करने के लिए टालना नहीं चाहिए।
     
  • बच्चों को तला-भुना या फास्टफूड खिलाने के बजाए सुबह पौष्टिक नाश्ता दें। उन्हें फल, हरी सब्जियां और दालों से परिपूर्ण नाश्ता कराएं। जैसे कि रात में बादाम को भिगो दें। सुबह बादाम घिसकर गुनगुने दूध में डालकर पिलाएं। कई बार हम स्वयं ऑफिस जाने की जल्दी में बच्चों को फास्ट फूड देते हैं जिससे हमारा समय तो बच जाता है किन्तु बच्चे के स्वास्थ्य के साथ ऐसा समझौता करना सर्वथा अनुचित है। इसके लिए जरूरी है कि जितना संभव हो, सुबह के नाश्ते की तैयारी हम रात को सोने से पहले ही कर लें। इससे सुबह काफी समय बचा सकते हैं और बच्चे को अच्छी तरह तैयार कर सकते हैं।
     
  • स्कूल जाने वाले बच्चों की ड्रेस, बैग आदि की तैयारी रात में ही व्यवस्थित कर लें। उनका होमवर्क पूरा हुआ या नहीं, ये देख लें, जिससे सुबह कोई हड़बड़ी न रहे। स्पष्ट है कि बच्चे की दिनचर्या सुबह से ही अच्छी रहेगी तो वे दिन भर ताजगी का अनुभव करेंगे। इसके लिए आपको पहले से ही तैयारी कर लेनी चाहिए। यह आपके और आपके बच्चे दोनों के लिए हितकर होगा।

 

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • 2
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Dec 26, 2018

thanks

  • रिपोर्ट

| Dec 13, 2018

Mera beta 3. 6 year ka hai vo jab school jana hota hai to bahut rota hai aur jab holiday hota hai to bahut khush rahta hai. vo subah me kaise khush hoker school jaye plz kuch tips de

  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}