• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
स्वास्थ्य गर्भावस्था

प्रेगनेंसी में दिल घबराना, गर्भावस्था में बेचैनी के कारण व उपाय

Supriya Jaiswal
गर्भावस्था

Supriya Jaiswal के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Jun 01, 2020

प्रेगनेंसी में दिल घबराना गर्भावस्था में बेचैनी के कारण व उपाय
विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

आपने सुना होगा कि प्रसव के बाद प्रसवोत्तर अवसाद महिलाओं के लिए एक प्रमुख चिंता का विषय है। लेकिन मूड की अन्य कई स्थितियां हैं जो आपकी गर्भावस्था को प्रभावित कर सकती हैं। 10में से 1 से अधिक गर्भवती महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान बेचैनी और घबराहट का अनुभव होता है।

गर्भावस्था के दौरान दिल घबराने का कारण / Causes of Restlessness in pregnancy 

गर्भावस्था के दौरान दिल घबराने के बहुत सारे कारण हो सकते हैं लेकिन मुख्य रूप से ये दो वजहे होती हैं।

  • कभी कभी आपको गर्भावस्था के दौरान इसके लक्षणों में कमी का अनुभव हो सकता है, लेकिन आपकी दिल घबराना और चिंता भी बढ़ सकता है। आखिरकार, सब कुछ आपके नियंत्रण में नहीं  है। गर्भावस्था के दौरान हार्मोनल परिवर्तन आपके मस्तिष्क के रसायनों को प्रभावित कर सकते हैं। इस कारण से आपको घबराहट और चिंता हो सकता है।

  • गर्भावस्था भी एक जबरदस्त बदलाव का समय होता है। इनमें से कुछ भावनाओं और संवेदनायो का स्वागत करने में आपको ख़ुशी होती है, साथ ही कुछ असहज और डरावने होते हैं|आपको कुछ जटिलताएं या अन्य परेशानियां भी हो सकती हैं जो आपको रात में जगाये रख सकते  हैं।

गर्भावस्था के दौरान बेचैनी के लक्षण / symptoms of Nervousness during pregnancy

गर्भावस्था के दौरान बेचैनी कुछ हद तक स्वाभाविक है। आखिरकार,यह प्रक्रिया आपके लिए पूरी तरह से नई हो सकती है। अगर आपने अपने अतीत में गर्भपात जैसी परिस्थितियों का सामना किया है, तो आपके बेचैनी और चिंता का कारण बन सकता है। लेकिन अगर ये घबराहट रोजमर्रा की जिंदगी में दखल देने लगे तो आपको चिंता हो सकती लक्षण हैं-- हद से अधिक चिंता महसूस करना,चीजों के बारे में अधिक चिंता करना, विशेष रूप से आपके स्वास्थ्य या बच्चे के बारे में,ध्यान केंद्रित करने में असमर्थता,चिड़चिड़ा या उत्तेजित महसूस करना,तनावग्रस्त मांसपेशिया आदि | 

कभी-कभी, चिंता के कारण घबराहट के दौरे पड़ सकते हैं। ये अचानक शुरू हो सकते हैं। पैनिक अटैक हर इंसान अलग अलग हो सकती है | लक्षण है --ऐसा महसूस करना कि आप सांस नहीं ले पा रही है ,ऐसा महसूस हो रहा है कि आप पागल हो रही हैं, महसूस करना कीकुछ बुरा जैसा होने वाला है

गर्भावस्था के दौरान बेचैनी से बचने के उपाय / Tips To Cope Up Nervousness During Pregnancy In Hindi

लक्षणों और वजहों के बारे में तो आपने जान लिया अब आपके लिए ये जानना भी जरूरी है कि इसके लिए बचाव के उपाय क्या हैं

  • बेचैनी मामलों में आमतौर पर किसी भी विशिष्ट उपचार की आवश्यकता नहीं होती है, हालांकि अपने चिकित्सक से अपनी भावनाओं का उल्लेख करना एक अच्छा विचार है।गंभीर मामलों में, आपका डॉक्टर जोखिम को परखने के बाद दवा की सलाह देसकता है।

  • दिल घबराना और बेचैनी को कम करने में मदद करने वाली गतिविधिया करना आपके लिए अच्छा विकल्प हो सकता है। शारीरिक गतिविधि आपके शरीर को एंडोर्फिन छोड़ने में मदद करती है। ये आपके मस्तिष्क में प्राकृतिक दर्द निवारकpainkiller की तरह काम करते हैं। अपने शरीर को स्थानांतरित move करना तनाव को प्रबंधित करने के सबसे अनुशंसित तरीकों में से एक है। गतिविधिया जैसे की  टहलना,दौड़ना,योग आपकी मदर करेंगे| 

  • आप ऐसी गतिविधियों को कर सकते हैं जो आपके शरीर को बिना पसीने बहाये,शरीर से एंडोर्फिन को छोड़ने में मदद करती हैं उदहारण के लिए –ध्यान,एक्यूपंक्चर,मालिश ,गहरी साँस लेने के व्यायाम| नियमित समय से व्यायाम करें|  

  • यदि आपको पहले भी डर के दौरे पड़ते हैं, तब तो और भी ध्यान देना होगा। दौरे में डर की वजह से हृदयगति बढ़ जाती है, पसीना आता है, हाथ-पैर कांपते हैं, सांस लेने में कठिनाई होती है, गला सूखता है व छाती में दर्द होने लगता है। ऐसा कुछ हो तो डॉक्टर को बताएं। यदि इसकी वजह से आपका खाना-पीना व सोना दूभर हो रहा हो तो डॉक्टर थेरपिस्ट की मदद से हल्की दवा की खुराक दे सकते हैं।

  • सुनिश्चित करे कि आप पर्याप्त नींद ले रही हैं। हालांकि गर्भावस्था के दौरान नींद  छलावा लग सकती है, अच्छी नींद आपके बेचैनी के लक्षणों में काफी मदद कर सकती है। क्या आप रात में अक्सर उठती हैं? जबभी आपको मौका मिले झपकी लेने की कोशिश करें।

  • अपनी डायरी लिखे-- कभी-कभी आपको बात करने का मन नहीं करता होगा। उन सभी विचारों को कहीं न कही तो निकलने की आवश्यकता है। अपनी डायरी शुरू करने का प्रयास करें जहां आप बिना डर के अपनी भावनाओं को बाहर निकल सकते हैं।आप देखेंगी की अपने विचारों और भावनाओं को लिखना आपको अपनी चिंताओं को व्यवस्थित करने में मदद करेंगे।

  • अपने आहार में ओमेगा 3 फैटी एसिडOmega 3 fatty Acid शामिल करें, चीनी व कैफीन से बचें,

लोगों से संवाद बनाए रखें खास तौर पर अन्य  गर्भवती मां से बातचीत करें तभी आप अपनी उत्तेजना पर काफी हद तक काबू पा सकती हैं।

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

इस ब्लॉग को पेरेंट्यून विशेषज्ञ पैनल के डॉक्टरों और विशेषज्ञों द्वारा जांचा और सत्यापित किया गया है। हमारे पैनल में निओनेटोलाजिस्ट, गायनोकोलॉजिस्ट, पीडियाट्रिशियन, न्यूट्रिशनिस्ट, चाइल्ड काउंसलर, एजुकेशन एंड लर्निंग एक्सपर्ट, फिजियोथेरेपिस्ट, लर्निंग डिसेबिलिटी एक्सपर्ट और डेवलपमेंटल पीड शामिल हैं।

  • 3
कमैंट्स ()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Jul 13, 2019

garbhawasta me nimbu pani pine ke fayde or nuksan

  • Reply
  • रिपोर्ट

| May 19, 2020

muje 3 mahine Kya Kya sabdani barat ni hogi

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Jun 09, 2020

4 month h kuch healthy nahi khaya jata

  • Reply
  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें
Sadhna Jaiswal

आज के दिन के फीचर्ड कंटेंट

गर्भावस्था

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}