• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
शिशु की देख - रेख

बच्चों को साबुन और शैंपू लगाने का सही तरीका क्या है

Deepak Pratihast
0 से 1 वर्ष

Deepak Pratihast के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Apr 12, 2021

बच्चों को साबुन और शैंपू लगाने का सही तरीका क्या है
विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

बच्चे के जन्म के बाद मां उसके आहार के अलावा उसके शरीर की साफ-सफाई को लेकर भी काफी परेशान रहती है। बच्चे को कब नहलाना है, कैसे नहलाना (Bath) है, उसे कबसे साबुन और शैंपू लगाना है, साबुन और शैंपू लगाने का सही तरीका क्या है, ऐसे कई और सवाल पैरेंट्स के मन में चलते रहते हैं। अगर आप भी हाल ही में मां बनी हैं या आपका बच्चा (Kids) एक साल से छोटा है और आपके मन में भी कुछ ऐसे सवाल हैं, तो यह ब्लॉग आपके लिए है। इस ब्लॉग में हम आपको बताएंगे कि बच्चे को साबुन और शैंपू लगाने का सही तरीका क्या है और कब से इसकी शुरुआत करनी चाहिए।

नवजात शिशु को कब से शुरू करें नहलाना और साबुन-शैंपू लगाना? / When Can You Use Baby Shop & Shampoo on Newborn In Hindi?

शिशु बहुत नाजुक होते हैं, खासकर 1 साल से छोटे बच्चे। उनकी त्वचा इस अवस्था में बहुत पतली होती है। ऐसे में पैरेंट्स के मन में दुविधा होती है कि बच्चे को कबसे साबुन व शैंपू लगाना शुरू करें। यहां आपके लिए यह जानना जरूरी है कि जब तक बच्चे का गर्भनाल स्टंप (umbilical cord stump) निकल नहीं जाता, तब तक आपको उसे साबुन लगाने से बचना चाहिए। अगर शिशु तीन से छह महीने का हो गया है तो आप उसे साबुन व शैंपू लगाना शुरू कर सकती हैं। हालांकि आपको इस बात का ध्यान रखना होगा कि साबुन (Kids Soap) और शैंपू  (Kids Shampoo) बच्चों वाले ही हों। शिशु पर बड़ों के प्रॉडक्ट भूलकर भी न लगाएं। इससे उसकी त्वचा को नुकसान पहुंच सकता है। आप इस ब्लॉग को जरूर पढ़ लें :- क्या है छोटे बच्चे को नहलाने का सही तरीका ? 

बच्चे को कितनी बार लगाएं साबुन-शैंपू / What is the right time to use soaps and shampoos for babies

अगर आप ये सोच रहीं हैं कि आपने बेबी शॉप व शैंपू ले लिया है और उसे कितनी बार भी लगाने पर बच्चे को नुकसान नहीं होगा, तो आप गलत हैं। दरअसल बेबी शॉप व शैंपू में थैलेट्स और पैराबेन्स केमिकल का इस्तेमाल किया जाता है। ऐसे में इनका ज्यादा इस्तेमाल बच्चे को नुकसान पहुंचा सकता है। उसकी त्वचा पर रैशेज, खुजली और जलन जैसी समस्या हो सकती है। अतः बेहतर होगा कि आप बच्चे को हफ्ते में एक से दो बार ही साबुन और शैंपू लगाएं। सर्दी के मौसम में तो इसका खास ध्यान रखना चाहिए। इस मौसम में ज्यादा साबुन लगाने से बच्चे की त्वचा की नमी खत्म हो जाती है और खुजली होने लगती है। इस ब्लॉग में भी कुछ कारगर टिप्स के बारे में बताए गए हैं तो इसे जरूर पढ़ लें :- बच्चों को नहलाने के समय में किन बातों का विशेष रूप से ध्यान रखें ?

ये है सही तरीका

शिशु को साबुन और शैंपू कब और कितनी बार लगाना है, इसे लेकर आपके सारे संदेह दूर हो गए होंगे। अब हम बात करेंगे सबसे महत्वपूर्ण पहलु पर। आखिर बच्चे को साबुन और शैंपू लगाने का सही तरीका क्या है। आइए जानते हैं कुछ महत्वपूर्ण तरीकों के बारे में...

  • बच्चे को नहलाने भर से ही आपकी जिम्मेदारी खत्म नहीं होगी। बच्चे को शैंपू व साबुन लगा रही हैं तो इस बात पर ध्यान रखें कि उसे स्किन की कोई समस्या तो नहीं हो रही है। जिस साबुन व शैंपू को लगाने के बाद बच्चे को स्किन संबंधी समस्या होती है, उसे दोबारा इस्तेमाल न करें। ये ब्लॉग भी आपके काम का है यहां आपको जानकारी मिलेगी कि अपने बच्चे के लिए घर में कैसे बनाएं होममेड शैंपू :- Tips to Make Homemade Baby Shampoo In English
  • शिशु को जब साबुन लगाएं तो उसकी त्वचा को बहुत ज्यादा व बहुत जोड़ से न रगड़ें।
     
  • पहली बार बच्चे के शरीर पर साबुन लगाने से पहले साबुन को त्वचा के छोटे हिस्से पर लगाकर देखें। अगर उसे खुजली या रैशेज होता है तो साबुन ठीक नहीं है। इसका इस्तेमाल आपको फौरन रोक देना चाहिए।
     
  • अगर आपका बच्चा 6 से 8 महीने का है तो साबुन को सीधे उसके शरीर पर लगाने से बचें। साबुन को पहले अपने हाथ पर मलकर झाग बना लें, इसके बाद उसकी त्वचा पर लगाएं।
     
  • अगर आपने बच्चे को साबुन व शैंपू लगाया है तो 2-3 मिनट में उसे धो दें। ज्यादा देर तक साबुन व शैंपू को स्किन पर छोड़ना उसके लिए नुकसानदायक हो सकता है।
     
  • 5 साल तक के बच्चों को सेंटेड साबुन लगाने से बचें। ऐसे साबुन में केमिकल मिले होते हैं, जो बच्चों के लिए नुकसानदायक हो सकते हैं।
     
  • बालों में शैंपू लगाकर जोड़ से न रगड़ें, आराम आराम से उसके सिर में उंगलियां चलाएं।
     
  • शैंपू व साबुन को इस तरह लगाएं जिससे झाग बच्चे की आंखों में न जाए। आंखों में झाग जाने पर उसे जलन हो सकती है।

बच्चे को शैंपू साबुन लगाने समय इन बातों का भी रखें ध्यान

बच्चे को साबुन व शैंपू लगाने से पहले आपको कुछ और जरूर बातों का ध्यान रखना चाहिए। तीन से 4 महीने छोटे बच्चे को आप सीधे पानी से न नहलाएं। पानी में तौलिया भिगोकर उसे निचोड़ लें और बच्चे के शरीर को पोछें। जब बच्चे के लिए साबुन व शैंपू लेने जा रहे हैं तो उसकी मैन्यूफेक्चरिंग डेट, उसमें कौन-कौन सी चीजें मिली हैं, उसकी एक्सपायरी डेट क्या है, इसके बारे में जरूर देखें।

  बच्चे को कब नहलाना है, कैसे नहलाना है, उसे कबसे साबुन और शैंपू लगाना है, साबुन और शैंपू लगाने का सही तरीका क्या है, ऐसे कई और सवाल पैरेंट्स के मन में चलते रहते हैं। जानकारी के अभाव में कई पैरेंट्स कुछ गलतियां भी करते हैं। अगर आपके घर भी छोटा बच्चा है तो इस बात का ध्यान रखें कि उसे हफ्ते में 2 बार साबुन व शैंपू लगाएं। उसकी स्किन पर सीधे न लगाएं।

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

इस ब्लॉग को पेरेंट्यून विशेषज्ञ पैनल के डॉक्टरों और विशेषज्ञों द्वारा जांचा और सत्यापित किया गया है। हमारे पैनल में निओनेटोलाजिस्ट, गायनोकोलॉजिस्ट, पीडियाट्रिशियन, न्यूट्रिशनिस्ट, चाइल्ड काउंसलर, एजुकेशन एंड लर्निंग एक्सपर्ट, फिजियोथेरेपिस्ट, लर्निंग डिसेबिलिटी एक्सपर्ट और डेवलपमेंटल पीड शामिल हैं।

  • कमेंट
कमैंट्स ()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें

टॉप शिशु की देख - रेख ब्लॉग

Ask your queries to Doctors & Experts

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}