• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
पेरेंटिंग

कैसे छुड़ाएं बच्चों की दांत से काटने की आदत

 Kalpana
1 से 3 वर्ष

Kalpana के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Aug 05, 2020

कैसे छुड़ाएं बच्चों की दांत से काटने की आदत
विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

आमूमन हर 1-3 साल के बच्चों में दांत से काटने की आदत होती है। आप इसे देख उसे डांटते-फटकारते हैं, कभी कभार झापड़ भी रसीद देते हैं। आप अपनी जगह ठीक है, लेकिन मारना, डांटना-फटकारना ठीक नहीं हैं। आप के ऐसे प्रहार बच्चे को दुखी कर सकते हैं, जो बच्चे और आपके लिए काफी नुकसानदायक होता हैै। जानते हैं कि बच्चे की काटने की आदत आप में खीझ पैदा करती है। पर आपने कभी सोचा है कि बच्चा ऐसा क्यों करता है। इन तमाम कारणों को जानकर बच्चे की इस आदत को छुड़ाने के मजबूत कोशिश करते हैं। ज्यादातर 1-3 साल के बच्चों में दांत से काटने की आदत होती है। इस आयु वर्ग के बच्चे बोलना सीखते हैं, लेकिन साफ-साफ बोलने में निपुण नहीं होते। ऐसे में वे बहुत से भावों को दांत से काटकर बताते हैं। या यूं कह सकते हैं कि इस आयु वर्ग के बच्चों में खुशी, क्रोध या हताशा की भावनाओं को व्यक्त करने का तरीका है।वातावरण, गतिविधियां या लोगों के हाव-भाव बच्चे के मन को आकर्षित करते हैं। बच्चा अपने हाव-भाव को दांत काटकर व्यक्त करता है।

  •  घबराहट और असुरक्षा -जब बच्चा नये स्थान पर होता है, आसपास के नये चेहरे होते हैं, बहुत से अजनबियों से घिरा होता है, नये लोग उससे बातचीत करते हैं, तो बच्चा परेशान या असुरक्षित महसूस करता है। नतीजतन घबराहट में बच्चा स्वयं को या आस-पास के लोगों को काटता है। 
     
  • ओवर एनर्जी में काटना- इस आयु वर्ग में बच्चों में ऊर्जा का अधिक होती है। बच्चा हर समय कुछ न कुछ गतिविधि में मश्गूल रहता है। बच्चा इस ऊर्जा को कभी-कभी काटने में खर्च कर देता है
     
  • थकान या अवस्थ होने पर - जब बच्चा थका हुआ होता है, पूरी नींद नहीं लेता या अस्वस्थ होता है, तब बेचैनी में रोता है। और इस खीझ और बेचानी का संदेश देने के लिए स्वयं या दूसरों को काटता है। 
     
  • दांत निकालने में भी- जब बच्चा दांत निकालना आरंभ करता है, तब यह दौर बच्चे के लिए काफी कष्ट भरा होता है। इस दौरान बच्चा उंगलियों पर काटने से उसे आराम और सुरक्षा का एहसास होता है।
     
  • दूसरे बच्चे की आक्रामकता का जवाब- दूसरे बच्चे द्वारा प्लेस्कूल या पार्क में मारे जाने पर बच्चे को गुस्सा आता है। गुस्से में बच्चा दूसरे बच्चे को पीठ में काटकर गुस्से का जवाब देता है।
  • ध्यान पाने के लिए-अधिकांश बच्चे ध्यान चाहने वाले होते हैं। उन्हें दूसरों का पसंद होता है। अगर उन्हें लगता है कि उन्हें किसी का ध्यान नहीं मिल रहा है, तो वे अपना गुस्सा, आपत्ति और असुरक्षा व्यक्त करने के काटते हैं। 

कैसे छुड़ाएं बच्चों में दांत काटने की आदत  


आपने कारण जान लिए कि आखिर 1-3 आयु वर्ग के बच्चे क्यों काटते हैं। अब बच्चों में इस आदत को छुड़ाने के तरीेके जानिए। बच्चों में इस आदत को प्रतिबंधित करने के तरीके इस प्रकार हैं- 

  1. बच्चे को करीब से देखिए-  बच्चा अधिक काटता है तो माता-पिता को अतिरिक्त सतर्क होना चाहिए। रोना, चिल्लाना, फुफ्फुस, पैर हिलाना जैसे लक्षण काटने की क्रिया से पहले हो सकता है। कड़ी निगरानी रखने से अभिभावकों को समय पर बच्चे को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है।
     
  2. बच्चे का ध्यान पलटाएं -आपने जान लिया कि बच्चा गुस्से में है, तो उसे प्यार करें। उसका ध्यान गुस्से वाली चीजों से दूर करें। यानी ध्यान हटाएं। बच्चे को उसकी पसंदीदा बातों, खिलौने या खाने की चीज में व्यस्त करें, ताकि बच्चा गुस्से वाली बात को भूल ही जाए।
     
  3. वैकल्पिक व्यवहारों पर चर्चा करें- बच्चा आमतौर पर किसी को काटने के बाद सभी अधिक असहज और सचेत महसूस करता है। उन्हें शर्मिंदा करने के बजाय, यह समझाएं कि काटना नहीं चाहिए और प्रतिक्रिया को बोलकर व्यक्त करना चाहिए।
     
  4. शेयरिंग करना सिखाएं - आमतौर पर बच्चा जिसके साथ खेलता है उसे ही काटता हैै या जब बच्चे को दूसरे बच्चे को खिलौना चाहिए होता है तो वह काटता हैै। ऐसे में आप बच्चे को शेयरिंग करना सिखाएं। जब बच्चा सीखेगा कि चीजें दूसरे के साथ साझा करना सीखेगा तो वह काटेगा नहीं।
     
  5. स्टोरी से सिखाएं - कोई भी बात बच्चे कहानी के माध्यम से जल्द सीखते हैं। आप उन्हें कोई कहानी सुनाएं जिसमें काटना बुरी बात बताई गई हो। वो इसे समझेंगे और अमल में लाएंगे। 
     
  6. जब आपके बच्चे को दूसरा बच्चा काटे ?गुस्से में नहीं आएं कि दूसरे बच्चों ने आपके बच्चे को काट लिया हो तो। ऐसे में आप धैर्य व संयम से काम लें। इससे निपटने के लिए अपने बच्चे को सुरक्षित माहौल दें। जिस बच्चे ने आपके बच्चे को काटा है उससे अपने बच्चे को दूर रखें। बच्चे को डांटे नहीं कि फ्लां ने तुम्हें क्यों काटा है, तुमने कुछ क्यों नहीं कहा, तुम्हें भी काटना चाहिए था। ऐसी बातों से आप बच्चे को बदला लेने की भावना सीखा रहे हैं। इसकी जगह आप बच्चे को प्यार करें। उसे समझाएं जब ऐसा हो तो दूर हो जाना चाहिए और दूसरों को काटना गंदी बात है।

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

इस ब्लॉग को पेरेंट्यून विशेषज्ञ पैनल के डॉक्टरों और विशेषज्ञों द्वारा जांचा और सत्यापित किया गया है। हमारे पैनल में निओनेटोलाजिस्ट, गायनोकोलॉजिस्ट, पीडियाट्रिशियन, न्यूट्रिशनिस्ट, चाइल्ड काउंसलर, एजुकेशन एंड लर्निंग एक्सपर्ट, फिजियोथेरेपिस्ट, लर्निंग डिसेबिलिटी एक्सपर्ट और डेवलपमेंटल पीड शामिल हैं।

  • 1
कमैंट्स ()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Aug 05, 2020

  • Reply
  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें

टॉप पेरेंटिंग ब्लॉग

Sadhna Jaiswal

आज के दिन के फीचर्ड कंटेंट

गर्भावस्था

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}