पेरेंटिंग

भावनाओ को छूती एक लघु कहानी- लड़की से औरत तक!

Sojal
11 से 16 वर्ष

Sojal के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Jul 10, 2018

भावनाओ को छूती एक लघु कहानी लड़की से औरत तक

मेरी पढाई  पूरी होने से पहले ही मेरे घर वालो ने मेरी शादी तय कर दी | जब मैंने बोला कि मै और पढ्ना चाहती हू । माता -पिता ने बोला बेटा तेरे ससुराल वालो ने बोला है कि "तुझे पढाएंगे और अगर तू आगे जाके नौकरी करना चाहती है ,तो उन्हे कोई परेशानी नही है।" एक सामान्य लड़की के जीवन का दर्शन उन अनेको माओ में, जिन्होंने अपने जीवन के बहुमूल्य समय देकर हमारे समाज की रचना की है...

इसके आगे....वो निश्चिंत होके शादी कर लेती है,उसके दिमाग मे यही था कि उसके ससुराल वाले बहुत खुले विचारो के है। हर माता -पिता का यही सपना होता है कि उनकि बेटी अच्छे घर मे जाए जहा उसे किसी चीज की कमी ना हो।
 

शादी के बाद

अब वही लड़की जो शादी के पहले चुलबुली, बेफिक्र और मनमौजी से रहती थी, शादी के बाद एक सन्स्कारी बहू बन गयी,अब उसक सारे फैसले उसके नही रहे ,किससे मिलना है,क्या पहनना है सब बहुत सोच समझ कर और ससुराल वालो की पसंद से करना पड्ता है ।

उसकि उम्र से ज्यादा उसके सर पे ज़िम्मेदारियाँ आ गयी, अचानक से आये इतने सारे बद्लाव से वो घबरा गई और गलती करने पर ससुराल वालो कि डांट और ताने बस सुन के रह जाती ,और बाथ्रुम या किचेन में रो के अपना मन हल्का कर लेती थी। सपने तो दूर कि बात है जिम्मेदरियों के बीच में खुद के लिये भी समय निकलना मुश्किल था ,साँस बोला करती थी कि तुम तो बहुत खुशकिस्मत हो ,हमने तो बहुत कुछ झेला है ,जो आज कल कि लड़कियां कभी सह नही सकती। लड़की के लिये इस नये माहौल मे खुद को ढालना आसान नही था पर वक्त के साथ सीख रही थी ।

 

अपनी खुशियों के साथ समझौता

एक दिन उसने अपने पति से बोला कि वो नौकरी करना चाहती है,पती ने बोला क्या हुआ "किसी चीज कि कमी है क्या,?" उसने बोला नही तो,पती ने बोला फिर क्यो? क्युकि मै कुछ बनना चहती हूं , पति ने बोला "खरीदरी करनी है या पैसे चाहिए तो मुझसे बोलो इसके लिए नौकरी करने कि क्या जरुरत है", बात वही ख़त्म हो गयी।

कुछ दिनो मे उसे पता चला कि वो माँ बनने वाली है, उसे समझ नही आ रहा था कि वो इतनी बडी जिम्मेदारी के लिये तैयार है या नही क्युकि अभी तो उसने नये महौल मे ढ्लना सिखा ही था। खुश थी कि माँ बनने वाली है पर उसे ये भी पता था कि अब उसकी यहि उसकी जिंदगी है,की वह एक ग़ृहणी है,अब वह एक लड़की से औरत  बन चुकी है ।

आज उसकी एक साल कि बेटी है।शायद वो अपनी बेटी के लिये ऐसी जिंदगी नही चाहेगी और उसके सारे सपने पूरे करेगी जो वो अपने लिए कभी पूरे ना कर पायी।

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • 10
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Sep 22, 2018

Ye to hum adhiktar ladkiyon ke sath hota h.. pr mai yeh jaan na chahti hu ki kya hm in sab se upar uth sakte h ya halat se bs samjhouta kr le..

  • रिपोर्ट

| Sep 18, 2018

mere sath bhi aisa hua tha. mere sas to sas mere to sasur bhi khrab h. husband bhi supportive nhi h. sadi s phle m SSC ki tyyari kr rhi thi. suddenly sadi ho gyi phir bccha ho gaya. ab sochti hu ki bhgwan n kon s bure krmo ki sja di h.

  • रिपोर्ट

| Sep 16, 2018

Mai mumbai city ki B. ed or M. A ki hui ladki meri shadi UP k 1 chote se gao me hui jis gao ka naam b bahot kam logo ko pata hoga bahot badi joint family h jaha mai apne sasural me reh rahi hu meri saas purane khyalato ki h vo b yahi bolti h hum log ne to itna kam kiya tum log kr ni sakti or bat bat par tokti h mai b apni ankho k aasu rat ko apne pillow me poch liya krti hu or sochti hu k mai kha se kha aa gyi kya upar vale ne kuch behtar meri kismat me nahi likha par 1 chiz behtar hai mere hubby bahot ache hai or meri 2 saal ki 1 beti hai par ab mai b naukri karna chahti hu aage badhna chahti hu shadi se pehle mai teaching krti thi mumbai me ab sab chut gaya.

  • रिपोर्ट

| Sep 15, 2018

Very true har ladki isse relate karti hai

  • रिपोर्ट

| Sep 08, 2018

its happen with everone .....its not new thing... but most imp... ur lyf partner should be supportive.... than lyf can go ahead easily... bcoz after marry to some extent ...someone lyf drpend on husband decision.....

  • रिपोर्ट

| Sep 07, 2018

Yhi hota h hmesa or sayd hi kbhi badle ye

  • रिपोर्ट

| Sep 05, 2018

Acchi story h. Zyadatar ladkiyo k sath yahi hota h

  • रिपोर्ट

| Jul 28, 2018

Maa to bahut kuch soch leti hai,ki ladki ko aisa बनाएगी,वेसा बनाएगी but problem to after marriage start hoti h,saas ki husband ki,ager ye ससुराल में दोनों undestanding है तो लाइफ सुपर

  • रिपोर्ट

| Jul 10, 2018

बहुत बढिया ब्लॉग। कई बार हालात ऐसे हो जाते है कि महिलाओ को अपने सपने परिवार के खातिर भूलने पडते है। शायद अगर वो उस समय बिना डरे अपने निर्णय पर अडिग रहे तो,अपने सपने पूरे कर सकती है। इसमे अगर उसे अपने पति का साथ मिल जाए तो यह सब उसके लिए और भी आसान होगा।

  • रिपोर्ट

| Jul 10, 2018

  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}