स्वास्थ्य और कल्याण

क्या आपके शिशु को भी चाक या मिट्टी खाने की आदत है? ऐसे रखें ध्यान

Parentune Support
1 से 3 वर्ष

Parentune Support के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Aug 14, 2018

क्या आपके शिशु को भी चाक या मिट्टी खाने की आदत है ऐसे रखें ध्यान

बच्चों में मिट्टी खाने की आदत लाइलाज नहीं है लेकिन पहले उसकी तह में जाना होगा कि वह मिट्टी या चाक क्यों खाता है। सर्वप्रथम तो बच्चों के साथ प्यार और सहानुभूति से पेश आएं। यह देखें कि मां होने के नाते आप अपना फर्ज पूरा कर रही हैं या नहीं? एक मां का कर्तव्य है कि वह अपने शिशु को पर्याप्त अवधि तक स्तनपान कराए अपने साथ सुलाए ताकि वह अपने आपको सुरक्षित महसूस कर सके। इसी प्रकार यदि आप कामकाजी महिला हैं तो बच्चे के लिए भी समय निकालें, न कि घर और ऑफिस के कामों के बोझ तले उसे अपने हाल पर छोड़ दें। जितने समय भी आप घर में रहें उसे प्यार, दुलार और अपना समय दें। 

यह भी ध्यान रखें कि बच्चे को उसकी इस आदत के लिए उसे दूसरों के सामने अपमानित न करें। इसलिए उसे अकेले में प्यार से समझाएं कि यह आदत ठीक नहीं है। उसकी आदत छुड़ाने के लिए उसके हाथ बांध देना या उसे मारना ठीक नहीं। इससे वे ढीठ हो जाते हैं। यदि उसका साथ मिट्टी खाने वाले बच्चों से है, तो वह छुड़ाइये और सबसे अच्छा तरीका ये है कि आप उसे दूसरे कामों में उलझा कर रखें ताकि मिट्टी खाने की ओर उसका ध्यान ही नहीं जाए।

छोटे बच्चों में मिट्टी खाना खून की कमी की निशानी है। इसका कारण बच्चों की खुराक में केवल दूध का सेवन होना है। हर चीज में दूध का मिश्रण होने से बच्चे में खून की कमी हो जाती है। बच्चों की खुराक में अन्न, दाल, सब्जियों की कमी होने से यह समस्या आती है।
 

बच्चे की इस आदत को छुड़ाने के लिए अपनाएं ये तरीके :
 

1. लौंग की कुछ कलियों को पीसकर पानी में उबाल लीजिए। बच्चे को एक-एक चम्मच करके तीन समय ये पानी दें। इससे उसकी मिट्टी खाने की आदत जल्दी ही छूट जाएगी।

2. बच्चे को हर रोज एक केला शहद के साथ मिलाकर खाने के लिए दें। कुछ दिनों में ही बच्चे में फर्क नजर आने लगेगा।

3. रोज रात गुनगुने पानी के साथ बच्चे को एक चम्मच अजवायन का चूर्ण दें। इससे बच्चें की मिट्टी खाने की आदत छूट जाएगी।

4. बच्चों की खुराक में देसी घी की मात्रा बढ़ानी चाहिए। दाल, खिचड़ी, दलिया, सूजी की खीर, केले, बिस्कुट, दही, अंडे व मांस का सेवन जरूर करवाएं। दूध की मात्रा उम्र के हिसाब से कम करें। 2 वर्ष की उम्र वाले बच्चे को मां का दूध जरूर मिलना चाहिए। बच्चों को खाना खिलाने के लिए कभी जबरदस्ती नहीं करनी चाहिए और बच्चे को स्वादानुसार खुराक देनी चाहिए।

5. कई बार बच्चे में कैल्शियम की कमी होने पर भी वह मिट्टी खानी शुरू कर देते हैं। यह जरूरी है कि डॉक्टर से जांच करवाएं और उन्हें कैल्शियम युक्त अधिक आहार दें। कई बार पोषक तत्वों की कमी के चलते भी बच्चे मिट्टी खाने लगते हैं। बच्चे को संपूर्ण आहार दें ताकि उसके शरीर में किसी तत्व की कमी न होने पाए।  
 

यदि आपको लगता है कि आप प्रयास करते-करते थक गई हैं फिर भी वह अपनी आदत नहीं छोड़ रहा, तो उसे किसी मनोवैज्ञानिक के पास ले जाएं।

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • 1
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Aug 16, 2018

m

  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}