गर्भावस्था

गर्भावस्था में क्यों होता है गैजेट्स का ज्यादा प्रयोग वर्जित! और जानें

Supriya Jaiswal
गर्भावस्था

Supriya Jaiswal के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Jul 10, 2018

गर्भावस्था में क्यों होता है गैजेट्स का ज्यादा प्रयोग वर्जित और जानें

गर्भधारण करना हर महिला के लिए बेहद खुशी का एहसास होता है। हो सकता है आप भी इस स्थिति से गुजरी हों। हर मां की तरह आप भी चाहती होंगी कि आपके गर्भ में जो बच्चा पल रहा है , वो स्वस्थ और सुरक्षित रहे । लेकिन क्या आप जानती है कि प्रेग्नेंसी के दौरान आप अगर किसी गैजेट्स का इस्तेमाल करती है, तो वो आपके होने वाले बच्चे के लिए परेशानी का सबब बन सकता है। इसलिए आज हम आपको इस आर्टिकल के जरिए बता रहे हैं कि गर्भावस्था के दौरान गैजेट्स का प्रयोग करना आपके और आपके होने वाले बच्चे के लिए कितना सुरक्षित हैं।

आजकल गैजेट्स जीवन का जरूरी हिस्सा बन चुके हैं इसलिए बेशक आप गैजेट्स का प्रयोग पूरी तरह बंद ना करें, लेकिन इनका प्रयोग करना कम जरुर कर दें। तार रहित गैजेट्स के अंदर रेडिएशन भेजने की प्रवृत्ति पाई जाती है। जिसके कारण शिशु में व्यवहारिक विकार हो सकते हैं। ज्यादातर मामलों में शिशुओं में पायी जाने वाली इस विकृति का कारण गैजेट्स से निकलने वाले रेडियेशन से ही होता है।

  • मोबाइल और लैपटॉप जैसे गैजेट्स का अत्यधिक इस्तेमाल वैसे भी आपके शरीर को काफी नुकसान पहुंचाता है, किन्तु गर्भावस्था के दौरान मोबाइल और लैपटॉप का प्रयोग नुकसानदेह है। अतः आपके लिए ये जरुरी है कि आप लम्बे समय तक फोन का इस्तेमाल न करें और ना ही लैपटॉप को अपने पेट पर रखें, क्योंकि इसका शिशु के मस्तिष्क के विकास पर सीधा असर पड़ता है।
     
  • मोबाइल फोन अपने इलेक्ट्रो मेग्नेटिक विकिरणों के कारण सभी के लिए बेहद हनिकारक साबित हो रहे हैं, लेकिन महिलाओं, बच्चों, बुजुर्गों और मरीजों पर इसके परिणाम अत्यधि‍क नुकसानदायक दिखाई देते हैं। इसका प्रमुख कारण प्रतिरोधक क्षमता की कमी और अति संवेदनशीलता को माना जा सकता है। वहीं गर्भावस्था में आपके द्वारा मोबाइल फोन का अधि‍क प्रयोग होने वाले बच्चे पर विपरीत असर डालता है। जहाँ तक हो सके तो जब फोन ऑन व वाइब्रेशन मोड पर हो तो, उसे अपने पास रखने से बचें। सेलफोन से स्वास्थ्य पर पड़ने वाले असर के बारे में शोधकर्ताओं का कहना है कि यदि गर्भवती महिलाएं नियमित रूप से मोबाइल फोन का इस्तेमाल करती हैं तो उनके बच्चों के आचरण में समस्या हो सकती है।
     
  • मोबाइल रेडिएशन के प्रभाव पर किए गए अध्ययनों में यह बात सामने आई है, कि महिलाओं का मानसिक स्वास्थ्य पिछले कुछ सालों में तेजी से प्रभावित हुआ है। इनमें मानसिक समस्याएं, सिरदर्द, सिर में झनझनाहट, लगातार थकान, डिप्रेशन, अनिद्रा, चक्कर आने जैसी समस्याएं बढ़ी है जो पोषण की कमी के अलावा मोबाइल के अत्यधि‍क इस्तेमाल के कारण हो सकती हैं। वहीं गर्भावस्था के दौरान मोबाइल का प्रयोग या इसके दुष्प्रभावों का असर आपके मस्तिष्क को भी प्रभावित कर सकता है तथा जन्म लेने बच्चे के स्वास्थ्य पर भी विपरीत प्रभाव पड़ता है। 
     
  • विशेषज्ञ मानते हैं कि मोबाइल फोन के दुष्प्रभाव के तौर पर दिखाई देने वाले लक्षण आगे चलकर गंभीर मानसिक बीमारी, कान बजना, जोड़ों में दर्द, याददाश्त में कमी और सेहत संबंधी अनेक समस्याओं को जन्म दे सकते हैं। इसके अलावा मोबाइल माइग्रेन और ब्रेन ट्यूमर जैसी बीमारियों की संभावना को कई गुना तक बढ़ा सकता है। 
     
  • गर्भावस्था के दौरान आपके द्वारा मोबाइल फोन का प्रयोग गर्भस्थ शि‍शु के स्वास्थ्य पर गंभीर असर डाल सकता है। जन्म से पहले शि‍शु के विकास पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है और उसकी दिमागी क्षमता को प्रभावित करने के साथ- साथ स्वभावगत परेशानियाँ पैदा कर सकता है। यह दुष्प्रभाव अल्कोहल या धूम्रपान के परिणामस्वरूप होने नुकसान के बराबर है।
     
  • मोबाइल फोन से सेहत को होने वाले नुकसान को लेकर किए गए कई अध्ययनों में यह कहा गया है कि इससे निकलने वाले विकिरण आपको कैंसर जैसी गंभीर बीमारी का शि‍कार बनाने के साथ- साथ उच्च रक्तचाप जैसी समस्याओं को भी जन्म दे सकते हैं।
     
  • अपने और अपने बच्चे के स्वास्थ्य के लिए गैजेट्स की लत ना लगाएँ क्योंकि किसी भी चीज़ की लत आपके पेट में पल रहे बच्चे के लिए नुकसानदेह हो सकती है। हालांकि इसके थोड़े बहुत प्रयोग से शिशु के स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव नहीं पड़ता है। लेकिन ज्यादा प्रयोग जरुर हानिकारक साबित हो सकता है। इसलिए अगर आप प्रेग्नेंट हैं तो इन गैजेट्स का प्रयोग कम करें। इन गैजेट्स के विकिरण के कारण आपका बच्चा जन्म से ही अपंग भी हो सकता है।
     
  • गैजेट्स से दूर रहने के फायदे बहुत हैं। इंटरनेट और गैजेट्स का प्रयोग कम करने से आपका स्वस्थ मस्तिष्क ज्यादा सक्रिय रहेगा, तथा यह रचनात्मक विचारों को बढ़ावा देता है जो आपके लिए ही फायदेमंद है । अगर आप आज से ही इन गैजेट्स से खुद को और अपने बच्चे को दूर रखेंगी तो ही आप अपने बच्चे को किसी भी प्रकार की विकृतियों से बचा पाएंगी।


    अतः जहाँ तक संभव हो, आपको गर्भावस्था के दौरान गैजेट्स का कम से कम प्रयोग करना चाहिए। इस तरह आप खुद को व गर्भ में पल रहे बच्चे को इनसे निकलने वाले हानिकारक विकिरण से बचा पाएँगी।

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • कमेंट
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें
टॉप गर्भावस्था ब्लॉग
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}