गर्भावस्था

जाने ओवलुशन किट के बारे मे, इसे पढ़े

Sadhna Jaiswal
गर्भावस्था

Sadhna Jaiswal के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Dec 22, 2017

जाने ओवलुशन किट के बारे मे इसे पढ़े

ओवलुशन उस प्रक्रिया को कहा जाता है जब ओवरी से अंडाणु का डिसचार्ज होता है। यह माना जाता है कि पीरियड साइकल के बिच की अवधी मे यह हो सकता है, जैसे कि 27 दिन के साइकल मे यह 14 वें दिन पर हो सकता है। ओवलुशन किट(Ovulation Kit) महीने के दो सबसे फर्टाइल दिन को जानने में मदद करता है। इसका प्रयोग हमे ओवलुशन के बारे मे 12 से 24 घंटे पहले ही सूचित कर देता है और अगर ओवलुशन होने के ठीक पहले या बाद मे सेक्स किया जाए तो गर्भ ठहरने कि संभावना काफी बढ़ जाती है। वैसे तो ओवलुशन पीरियड साइकल के बिच कि अवधि मे यह होता है, लेकिन हर महिला मे ओवोलेशन होने का समय अलग होता है। कुछ मे यह बहुत जल्दी और कुछ मे बहुत बाद मे होता है। अंडाणु  24 घंटे के लिए जीवित रहता है और इसी समय गर्भधारण कि संभावना अधिक होती है। इसलिये ओवलुशन किट प्रेगनेंट होने का सही समय पता करने का एक बहुत ही मददगार तरीका है।

कब करे ओवलुशन किट का प्रयोग/ When to Use Ovulation Kit In Hindi

इसका प्रयोग महिने मे तब किया जाना चाहिए जब आप को ऐसी संभावना लगे कि ओवलुशन होने वाला है। कुछ महिलाओं मे यह 8वें दिन पर या 19वें दिन पर भी हो सकता है। अनियमित चक्र मे ओवलुशन के दिन को पता करने के लए बार-बार टेस्ट करना पड़ सकता है।

इस ब्लॉग को जरूर पढ़ लें :- पैप स्मीयर (Pap-Smear) जांच क्या हैं ?

ओवुलेशन किट का उपयोग कैसे करे

एक सुखे साफ कंटेनर मे मूत्र को इक्ट्ठा कर लें और इस कंटेनर मे ओवलुशन किट को निर्धारित जगह तक डुबा दे। दस सेकंड के लिए इंतजार करें। सबसे पहले एक नियंत्रण रेखा (कंट्रोल लाईन) दिखाई देती है। फिर यदि टेस्ट लाइन गहरे रंग का उभर कर आये तो परणाम सकारात्मक है और ओवलुशन होने जा रहा है। अगर टेस्ट लाइन नही है तो परिणाम नेगेटिव है और इसे दुहराने की ज़रुरत है। इस टेस्ट को दोपहर मे करे और अधिक पानी न पिये क्योकि यह मूत्र मे हर्मोन कि मात्रा को कम कर सकता है और परिणाम को प्रभावित कर सकता है। ये ब्लॉग भी बहुत काम के हैं :- घर पर ऐसे करें गर्भावस्था की जांच

ओवलुशन टेस्ट किट कैसे काम करता है

 यह वो किट है जिससे घर पर हि ओवलुशन यानि अंडोत्सर्ग  का पता किया जा सकता है। ये बहुत ही आसानी से मिल जाता है। इससे जांच करना भी बहुत सरल है। ओवलुशन होने से पहले शरीर मे एक हार्मोन उत्सर्जित होता है। ओवलुशन टेस्ट किट इसी हार्मोन कि उपिस्थिति या अनुपस्थिति को दिखाने के लिए एक डाई का उपयोग करता है। अगर किट पर दो लाइन है तो टेस्ट पॉजिटिव हैऔर ओवलुशन होने वाला है। अगर एक ही लाइन है तो टेस्ट नेगेटीव है और इसे दोबारा किया जाना चाहिए। ओवलुशन टेस्ट किट 99% तक सही परिणाम बताता है।

इसका इस्तमाल कौन कर सकता है ?

वे महिलाएं जो इनफर्टिलिटी का उपचार करा रही है लेकिन सोनोग्राफी के लिए बार-बार डाक्टर के पास नही जा सकती। या वो महिलाये जो सब कुछ सही होते हुए भी गर्भधारण नही कर पा रही है या कपल्स जो किसी कारण वश एक दसरे से दूर रहते है। वो सही समय का पता लगा कर बच्चा प्लान कर सकते है। ये उन महिलाओं के लिए भी सही है जो फर्टाइल समय को जान कर प्रेगनेंसी को अवॉयड करना चाहती है।

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • कमेंट
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}