• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
स्वास्थ्य

कुछ इस तरह कन्ट्रोल करे पोस्टपार्टम डिप्रेशन

Sukanya
0 से 1 वर्ष

Sukanya के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Jun 22, 2020

कुछ इस तरह कन्ट्रोल करे पोस्टपार्टम डिप्रेशन
विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

पोस्टपार्टम डिप्रेशन महिलाओं के शरीर में हुए शारीरिक व हार्मोनल परिवर्तन के कारण होता है। पोस्टपार्टम डिप्रशेन आमतौर पर महिलाओं में बच्चे के जन्म के बाद होता है। यह एक प्रकार का मनोरोग है जिसमें महिलाएं बच्चे को जन्म देने के बाद उदास या तनाव में रहने लगती हैं। यह जरूरी नहीं कि ऐसा सभी महिलाओं के साथ हो,  कुछ महिलाएं इस स्थिति से बड़ी आसानी से बाहर निकल आती है। आमतौर पर यह  3-4 दिनों तक की होती है लेकिन कई बार यह बढ़कर कई हफ्ते या महीनों तक पहुंच जाती है तो इसे पोस्टपार्टम डिप्रेशन कहा जाता है। पोस्टपार्टम डिप्रशेन से बचने के लिए महिलाओं को बच्चे के साथ खुद का भी ध्यान रखना जरूरी होता है।

पोस्टपार्टम डिप्रेशन से उबरने के उपाय / How To Overcome  From Postpartum Depression In Hindi

अपना ध्यान दें - बच्चे के जन्म के बाद उसके कामों में उलझे रहने की जगह खुद को थोड़ा समय दें। गर्भावस्था के कारण आप में कई सारे शारीरिक बदलाव आते हैं। ऐसे में आपको खुद पर ध्यान देने की जरूरत है। नया हेयर कट लें, कुछ ट्रेंडी और फैशनबल कपड़े और एसेसरीज पहनें। इससे निश्चित रूप से आपका आत्मविश्वास बढ़ेगा। अगर आप ऐसे करेंगी तो डिलीवरी के बाद होने वाले तनाव से निजात पाना काफी आसान हो जाएगा।

  1. पौष्टिक खाना खाएं - बच्चे के जन्म के बाद आपके शरीर को स्वस्थ आहार की बहुत जरूरत होती है। अक्सर महिलाएं बच्चे में इतना उलझ जाती हैं कि वे खाने का ध्यान हीं नहीं रख पातीं हैं जो कि आपके और बच्चे दोनों के लिए ठीक नहीं हैं। ध्यान रहे, इस अवस्था में स्वस्थ और पौष्टिक आहार लेना आपकी सेहत के लिए बहुत जरूरी होता है। इससे आपको डिलीवरी के बाद के तनाव से छुटकारा पाने में मदद मिलेगी।
     
  2. दूसरों की मदद लेंअकेले ही बच्चे की देखभाल में परेशान होने की बजाय आप अपने पार्टनर की मदद लें। उन्हें अपने अंदर होने वाले बदलावों व तनाव के बारे में खुलकर बताएं तभी वे आपकी समस्या को समझेंगे और आपकी मदद कर पाएंगे। निश्चित ही वो आपकी समस्या को समझेगें और खुशी से आपकी मदद करेंगे। पार्टनर के प्यार और सहयोग की मदद से भी डिलीवरी के बाद होने वाले तनाव से छुटकारा दिलाने में मदद कर सकता है।
     
  3. योग या व्यायाम करे - गर्भावस्था के कारण शरीर में होने वाले बदलाव को दूर करने के लिए योग और व्यायाम करने की आदत डालें। आप चाहें तो मानसिक शांति के लिए मेडीटेशन भी कर सकती हैं। पोस्टपार्टम डिप्रेशन को कम करने का यह सबसे अच्छा तरीका है। साथ ही योगा से आपका स्वास्थ भी ठीक रहेगा।
     
  4. अच्छी और पर्याप्त नींद लें-- बच्चे के आने के बाद उसकी देखभाल के चक्कर में आपकी नींद गायब हो जाती है। ऐसे में आप अपने पार्टनर और परिवार के अन्य सदस्य को बच्चे की देखभाल का जिम्मा सौंप सकते हैं। अगर आप ऐसा नहीं कर सकती हैं तो बच्चे के सोने के समय ही आप अपनी नींद पूरी करें। इससे आप आराम से सो सकेंगी।

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

इस ब्लॉग को पेरेंट्यून विशेषज्ञ पैनल के डॉक्टरों और विशेषज्ञों द्वारा जांचा और सत्यापित किया गया है। हमारे पैनल में निओनेटोलाजिस्ट, गायनोकोलॉजिस्ट, पीडियाट्रिशियन, न्यूट्रिशनिस्ट, चाइल्ड काउंसलर, एजुकेशन एंड लर्निंग एक्सपर्ट, फिजियोथेरेपिस्ट, लर्निंग डिसेबिलिटी एक्सपर्ट और डेवलपमेंटल पीड शामिल हैं।

  • 3
कमैंट्स ()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Oct 11, 2019

Nic

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Jul 06, 2020

Hello mera beta 7 year ka h bt kuch khata nhi h patla h bahut kuch btaye

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Jul 09, 2020

  • Reply
  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें
Sadhna Jaiswal

आज के दिन के फीचर्ड कंटेंट

गर्भावस्था

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}