पेरेंटिंग बाल मनोविज्ञान और व्यवहार गैजेट्स और इंटरनेट

ब्लू व्हेल गेम से बचाएं अपने बच्चे को !

Parentune Support
7 से 11 वर्ष

Parentune Support के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Sep 15, 2018

ब्लू व्हेल गेम से बचाएं अपने बच्चे को

बच्चों के मानसिक विकास के लिए गेम्स भी जरूरी है, लेकिन कुछ गेम्स ऐसे भी हैं, जो आपके बच्चे के लिए खतरनाक या जानलेवा भी हो सकते हैं। ब्लू व्हेल नाम का ऐसा ही एक गेम इन दिनों सुर्खियों में है। दरअसल इस गेम के कारण भारत में अब तक 7 बच्चे अपनी जान दे चुके हैं। वहीं पूरी दुनिया की बात करें, तो इस गेम के कारण करीब 250 बच्चे स्यूसाइड कर चुके हैं। इन सब खबरों के बीच हर पैरेंट्स सोचने को मजबूर हैं कि आखिर वे कैसे अपने बच्चे को इस गेम से दूर रखें। हम बता रहे हैं आपको कुछ सावधानियां जिनका ध्यान रखकर आप भी अपने बच्चे को इस खतरनाक गेम से बचा सकते हैं।  ऑनलाइन गेम इन न्यूज़: बच्चे को इन तरीकों से बचा सकते हैं Momo Whatsapp के खतरे से

 

इन बातों का रखें ध्यान
 

  1. खुद को दूसरों से अलग दिखाने के चक्कर में बच्चे कई बार गलत रास्ते पर चलने लगते हैं। इसके अलावा दोस्तों के दबाव में भी वह कई बार गलत चीजें करने लगते हैं। ऐसे में जरूरी है कि पैरेंट्स बच्चे को शुरू से ही सही और गलत के बीच फर्क करना सिखाएं।
     
  2. बच्चों का मन बेहद कच्चा होता है, वे आसानी से दूसरों से प्रभावित हो जाते हैं। ये पैरेंट्स की जिम्मेदारी है कि वे उन्हें भटकने से बचाएं। पैरेंट्स बच्चों के साथ ज्यादा से ज्यादा वक्त बिताएं।
     
  3. बच्चों के साथ अधिक से अधिक समय बिताएं। यदि बच्चे के शरीर पर कोई असामान्य जख्म मिले तो यह इस खतरनाक गेम खेलने के लक्षण हो सकते हैं। ऐसे में अपने बच्चे का ध्यान रखें और उसको तभी इंटरनेट का यूज करने दें, जब आपको लगे कि वह पूरी तरह से सुरक्षित है।
     
  4. जैसे ही आपको शक हो कि आपका बच्चा अचानक से सुबह उठने लगा है, अकेले में समय बिताने लगा है, फोन को 24 घंटे अपने पास रखने लगा है, अचानक से हॉरर फिल्में देखने लगा है, डरा-डरा सा रहने लगा है, तो आप तुरंत सतर्क हो जाएं और उस पर नजर ऱकें। संभव हो तो उसे इंटरनेट से दूर रखें। इन सावधानियों से आप अपने बच्चे को इस खूनी खेल से बचा सकते हैं।
     
  5. इसके अलावा आप घर में मौजूद फोन में कुछ लॉक लगाकर भी बच्चे को इस गेम से बचा सकते हैं। इसके लिए आपको सबसे पहले गूगल प्ले स्टोर पर क्लिक करना होगा। वहां जाकर सेटिंग्स में जाएं और पैरेंटल कंट्रोल पर क्लिक करें। अगर पैरेंटल कंट्रोल ऑफ है, तो उसे ऑन कर दें। ऑन करने पर आपको एक पासवर्ड बनाने को कहा जाएगा। पासवर्ड ऐसा बनाएं जो आपके बच्चे की जानकारी में न हो। पासवर्ड को दोबारा टाइप कर उसे कंफर्म करें। इसके बाद ऐप्स एंड गेम्स पर क्लिक करें। यहां आपको कई विकल्प नजर आएंगे, इसमें से आप रेटेड फॉर 3+ को चुनिए और सेव कर दीजिए। इसके बाद बच्चा चाहकर भी फोन में ब्लू व्हेल गेम को इंस्टॉल नहीं कर सकेगा।    
     

इन लक्षणों पर रखें नजर

अगर बच्चा कोई खतरनाक गेम खेल रहा है या फिर किसी गलत काम में शामिल है, तो कुछ लक्षणों के आधार पर आप इसका अंदाजा लगा सकते हैं। ये लक्षण इस प्रकार हैं...

  1. बहुत गुस्सा करना
     
  2. चिड़चिड़ा रहना
     
  3. कमरे में बंद रहना
     
  4. खाना छोड़ देना
     
  5. देर रात तक जागना
     
  6. किसी से बात नहीं करना
     
  7. गुमसुम रहना
     
  8. बहुत जिद करना
     
  9. हिंसक हो जाना
     
  10. पढ़ाई से मन चुराना
     
  11. क्लास में टीचर को तंग करना

 

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • कमेंट
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}