स्वास्थ्य

जानें ठंड में पेट्रोलियम जेली के इस्तेमाल से होने वाले नुकसान

Parentune Support
0 से 1 वर्ष

Parentune Support के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Oct 04, 2018

जानें ठंड में पेट्रोलियम जेली के इस्तेमाल से होने वाले नुकसान

सर्दियां आते ही त्वचा रूखी होने लगती हैं। इससे बचने के लिए पेट्रोलिय जेली का इस्तेमाल शुरू हो जाता है। सर्दी के मौसम में पेट्रोलियम जेली का इस्तेमाल सबसे ज्यादा होता है। बच्चों की त्वचा को लेकर पैरेंट्स ज्यादा चिंतित रहते हैं। ऐसे में वह बच्चे को भी पेट्रोलियम जेली लगाते हैं। पर बच्चों की त्वचा नाजुक होती है, ऐसे में पेट्रोलियम जेली का ज्यादा इस्तेमाल उन्हें नुकसान भी पहुंचा सकता है। ऐसे में जरूरत है खास ध्यान देने की। यहां हम बताएंगे पेट्रोलियम जेली से होने वाले नुकसान के बारे में।

ठंड में पेट्रोलियम जेली का इस्तेमाल बच्चे के लिए कितना सही​?/ Side-effects of Petroleum Jelly for Babies​ in Hindi

 

  • सूज सकते हैं फेफड़े – दरअसल पेट्रोलियम जेली में 1,4- dioxane।  जैसे कई घातक रसायन होते हैं, जिससे बड़ों तक को कैंसर भी हो सकता है। यही नहीं अगर आप पेट्रोलियम जेली को जरा सा सूंघ लें, तो आपको लिपीडो निमोनिया और फेफड़ों में सूजन की समस्या हो सकती है। अब आप अंदाजा लगाइए कि इससे बच्चे की स्किन पर क्या असर पड़ेगा।
  • त्वचा को भी नुकसान - डेली कई बार पेट्रोलियम जेली का इस्तेमाल आपके बच्चे की त्वचा पर बुरा असर डाल सकता है। यह उसकी त्वचा की पोषण अवशोषण की क्षमता को भी खत्म कर सकता है और त्वचा में मौजूद कोलाजन को भी तोड़ सकता है।
  • सूज सकती है त्वचा – पेट्रोलियम जेली का अधिक इस्तेमाल आपके बच्चे की त्वचा पर सूजन भी पैदा कर सकता है। इसके अलावा अगर आप मां हैं और आप भी इसका अधिक यूज करती हैं, तो ये आपके हार्मोंस को असंतुलित कर सकता है।

इसे भी पढ़ें: जानिए घर में नेचुरल तरीके से लिप बाम कैसे बनाएं?

  • कई तरह की बीमारियां - पेट्रोलियम जेली में मौजूद हाइड्रो कार्बन शरीर के अंदर आसानी से जाकर फैट कोशिकाओं में जमा हो जाता है, जो बच्चे की त्वचा व शरीर के लिए बेहद हानिकारक है। इससे कई तरह की बीमारियां हो सकती हैं।
  • मिनरल ऑयल भी खतरनाक - खाना खाने व सांस लेने के दौरान भी पेट्रोलियम जेली में पाया जाने वाला मिनरल ऑयल हाइड्रोकार्बन शरीर के अंदर चला जाता है। अगर आप मां हैं और बच्चे को स्तनपान करा रही हैं तो हो सकता है कि यह हाइड्रो कार्बन आपके दूध से शिशु के अंदर चला जाए। इससे भी उसे नुकसान पहुंच सकता है। 

 

आपको यह ब्लॉग कैसा लगा ? हमें अपने कमेन्ट्स के द्वारा जरूर बताएं !

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • 1
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Oct 06, 2018

thanks

  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}