स्वास्थ्य गर्भावस्था

पैप स्मीयर जांच के पहले किन जरूरी बातों का ध्यान रखें ?

Sadhna Jaiswal
गर्भावस्था

Sadhna Jaiswal के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Aug 17, 2018

पैप स्मीयर जांच के पहले किन जरूरी बातों का ध्यान रखें

पैप स्‍मीयर यूटरस कैंसर या सर्विक्स कैंसर का पता लगाने के लिए किया जाता है। स्तन कैंसर के बाद सर्विक्स कैंसर दूसरी ऐसी बीमारी है जो आज कल बहुत सी औरतो में पाया जा रहा है। बीमारी ऐसी है कि अंदर ही अंदर शुरू भी हो जाती है और पता तक लगने नहीं देती। गर्भावस्था में यह और भी जरुरी हो जाता है क्यूंकि इसकी वजह से आपके बच्चे का समय से पहले जन्म या बच्चे में अंधापन जैसी समस्या हो सकती है। इसी का पता लगाने के लिए पैप स्‍मीयर टेस्ट किया जाता है की आपके सर्विक्स में कोई ऐसे बीमारी वाले सेल्स मौजूद है या नहीं क्युंकि जितनी जल्दी इसका पता चल जाएगा उतनी ही जल्दी इसको ख़तम किया जा सकता है लेकिन पैप स्‍मीयर के जांच के लिए जाने से पहले कुछ बातों का ध्यान रखें।

पैप स्मीयर जांच से जुड़ी इन बातों का ध्यान रखें/ What To Check Before Pap Smear Test In Hindi

स्तन कैंसर के बाद सर्विक्स कैंसर दूसरी ऐसी बीमारी है जो आज कल बहुत सी औरतो में पाया जा रहा है। इसकी वजह से आपके बच्चे का समय से पहले जन्म या बच्चे में अंधापन जैसी समस्या हो सकती है इसी का पता लगाने के लिए पैप स्‍मीयर टेस्ट किया जाता है लेकिन पैप स्‍मीयर के जांच के लिए जाने से पहले नीचे बताई गयी कुछ बातों का ध्यान रखें...

ऐसे कुछ लक्षण जिसमें आपको जांच जरूर कराना चाहिए-- 

कुछ लक्षण जिनके होने पर आपको जांच कराने जरूर जाना चाहिए जैसे की गर्भाशय के नीचे की तरफ एक दाने की तरह बनना। पार्टनर के साथ शारीरिक संबंध बनाने के दौरान ब्लीडिंग की समस्‍या का होना। जब तक इन लक्षणों का पता चलता है तब तक कैंसर काफी फैल चुका होता है। कुछ दुसरे लक्षण जैसे की यौन संबंध के दौरान दर्द, भूख में कमी, वजन में कमी, पीठ में दर्द, एक पैर में सूजन, गर्भाशय से यूरिन निकलना भी एचवीपी वायरस के संक्रमण के संकेत हो सकते हैं ! 
 

गर्भावस्था के पहले या शुरूआती महीने --

यदि आप माँ बनने की सोच रही हैं तो कोशिश करे की उससे पहले आप पैप स्‍मीयर की जांच करा ले या फिर आप गर्भावस्था के शुरूआती महीनो में ही जांच करा ले इससे आपके बच्चे पे आने वाले परेशानियों का पता चल सकता है | 

इसे भी पढ़ें - गर्भावस्था में तनाव को दूर करने के 10 सटीक उपाय

ओव्‍यूलेशन में जांच आसान --

ओव्‍यूलेशन के दौरान एस्ट्रोजन-प्रोजेस्ट्रॉन हार्मोंस की वजह से सर्विक्स मुलायम होती हैं और खुल जाती हैं और जांच में आसानी होती है | इसलिए जांच के लिए यह बेहतर समय होता है। लेकिन जांच के 24 घंटे पहले तक शारीरिक संबंध बनाने से परहेज करें।
 

वजाइना में किसी खुशबु का प्रयोग--

किसी भी तरह की खुशबु का इस्तेमाल वजाइना  के नोर्मल पर्यावरण को ख़राब कर देगा इसलिए इस जांच से पहले वजाइना में किसी तरह की क्रीम या इत्र का प्रयोग न करें।
 

कपडे पहनने और निकालने में समय लगे --

कोशिश करे की आरामदायक कपड़े पहन कर जाए जिन्हें निकालने और पहनने में परेशानी और शर्मिंदगी ना हों क्यूंकी कई बार कपड़ो की वजह से डॉक्टर के सामने शर्मिंदगी महसूस होती है।
 

30 साल या ज्यादा --

अगर आपकी उम्र 30 या उससे ज्यादा है तो आपको यह जांच करवाना जरूरी है। यह टेस्ट उन महिलाओं के लिए भी जरूरी है, जो सेक्शुअली एक्टिव हैं। इसे 1 से तीन साल में रिपीट करवाते रहना चाहिए। अगर सेल्स में किसी तरह के बदलाव पाए जाते हैं, तो यह टेस्ट इससे भी कम समय में रिपीट करवाना पड़ सकता है। दरअसल, कई बार यह प्रॉब्लम तब पता चलती है, जब बहुत देर हो चुकी होती है। 
 

जाँच को लेकर चिंता न करे --

पैप स्मियर टेस्ट में यूटरस से कुछ सेल्स लेकर उनका टेस्ट किया जाता है। इसमें इन सेल्स को माइक्रोस्कोप से देखकर यह पता लगाया जाता है कि कहीं ये सेल्स कैंसर से ग्रस्त तो नहीं हैं। अगर हैं, तो कैंसर की यह कौन सी स्टेज है। यही नहीं, इस टेस्ट से कैंसर से पहले बॉडी में आने वाले बदलावों के बारे में भी पता चल जाता है। इससे घबराने की जरुरत नहीं है यह बस एक नार्मल जाँच है।

 

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • कमेंट
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}